लखनऊ में 22 जनवरी से लगेगा हुनर हाट, वोकल फॉर लोकल होगा आकर्षण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2021   16:48
  • Like
लखनऊ में 22 जनवरी से लगेगा हुनर हाट, वोकल फॉर लोकल होगा आकर्षण

आधिकारिक बयान के मुताबिक, इस आयोजन में देश के 31 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के दस्तकारों, शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों के साथ हुनर के लगभग 500 उस्ताद शामिल हो रहे हैं। इस हुनर हाट का औपचारिक उद्घाटन 23 जनवरी को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किया जाएगा।

नयी दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा 24वें हुनर हाट का आयोजन लखनऊ में 22 जनवरी से चार फरवरी के बीच किया जाएगा जिसका आकर्षण वोकल फॉर लोकल होगा। आधिकारिक बयान के मुताबिक, इस आयोजन में देश के 31 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के दस्तकारों, शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों के साथ हुनर के लगभग 500 उस्ताद शामिल हो रहे हैं। इस हुनर हाट का औपचारिक उद्घाटन 23 जनवरी को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किया जाएगा।

लखनऊ के हुनर हाट में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाण, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखण्ड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, ओड़िशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल सहित 31राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों सेहुनर के लगभग 500 उस्ताद शामिल हो रहे हैं। आने वाले दिनों में हुनर हाट का आयोजन मैसूर, जयपुर, चंडीगढ़, इंदौर, मुंबई, हैदराबाद, नई दिल्ली, रांची, कोटा, सूरत/अहमदाबाद, कोच्चि, पुडुचेरी और अन्य स्थानों पर होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना को लेकर पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने फिर उठाई आवाज, विधानसभा में नियम 52 के तहत चर्चा की माँग

  •  दिनेश शुक्ल
  •  मार्च 3, 2021   23:46
  • Like
श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना को लेकर पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने फिर उठाई आवाज, विधानसभा में नियम 52 के तहत चर्चा की माँग

पूर्व मंत्री व विधायक जीतू पटवारी ने कहा कि उन्होंने निमय 52 के तहत विधानसभा अध्यक्ष से सदन में श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना के दीर्घकालिक बंद होने, सटडाउन के लिए निर्माता तथा अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करने और इस सटडाउन से कुल हानि के विषय पर आधे घंटे की चर्चा के लिए समय मांगा है।

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के दौरान पूर्व मंत्री व राऊ विधानसभा से विधायक जीतू पटवारी ने श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना की इकाई 3 और 4 के टरबाईन खराब होने के कारण हुए नुकसान को लेकर सदन में तारांकित प्रश्न के रूप में सवाल उठाए गए थे। इसको लेकर उन्होंने इस मुद्दे पर शिवराज सरकार की तरफ से आधा अधूरा जबाब देने और जानकारी छिपाए जाने के आरोप लगाया है। जिसको लेकर उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष से नियम 52 के तहत सदन में श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना में हुई अनियमितता, धन की हानि और अधिकारीयों की लापरवाही सहित निजी बिजली कंपनीयों से सरकार द्वारा खरीदी गई बिजली में हुए भारी भ्रष्ट्राचार को लेकर आधे घंटे की चर्चा की माँग की है। जिसका समर्थन सदन के माननीय विधायक कुणाल चौधरी और विशाल जगदीश पटेल ने किया है।

 

इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार आम बजट झूठ का पुलिंदा,आंकड़ों का मायाजाल, दिशाहीन व बेहद निराशाजनक- कमलनाथ

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी का आरोप है कि श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना की इकाई 3 और 4 जिसकी निर्माण लागत पर 6600 करोड़ रूपए सरकार ने खर्च किए और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के जन्मदिवस के दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने इसकी आधारशिला रखी, लेकिन शुरू होने के 209 दिन के पहले ही टरबाईन टूट गया। जिसके बाद प्रदेश की शिवराज सरकार की बिजली खरीदी में पैसे की वसूली जारी है। जीतू पटवारी का आरोप है कि शिवराज सरकार जनता की गाढी कमाई का दुरूपयोग कर प्राइवेट बिजली कंपनीयों से मंहगी दर पर बिजली खरीद कर उनसे कमीशन के रूप में भारी रकम वसूल कर बिजली खरीदी में भारी भ्रष्ट्राचार कर रही है। पूर्व मंत्री का कहना है कि श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना में बंद इकाईयां साजिश के तहत बंद हुई हैं। जिसमें 100 से 200 करोड़ का लेनदेन का हुआ है। जीतू पटवारी ने आरोप लगाया कि इस पूरे मामले में 700 से 800 करोड़ का घपला और भ्रष्ट्राचार किया गया है। जो बिजली प्रदेशवासियों को कम कीमत पर मिल सकती है वह सरकार प्राइवेट बिजली कंपनीयों से 14 रूपए प्रति यूनिट में खरीद रही है। जिसका बोझ आम जनता की जेब पर पड़ रहा है। पहले ही लोग पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमतों से दो-चार हो रहे है वही मंहगी बिजली और फर्जी बिजली बिलों के चलते लोग परेशान है।

 

इसे भी पढ़ें: नाबालिग लड़की के साथ परिचित युवक ने खंडहर में बंधक बनाकर किया बलात्कार, आरोपी गिरफ्तार

जीतू पटवारी ने आरोप लगाया कि बिजली के क्षेत्र में सरकार, अधिकारियों और निजी कंपनीयों की मिलीभगत के चलते यह घोटाला हुआ है। इसके पीछे प्राइवेट कंपनीयों से बिजली खरीदी के लिए सिंगाजी पॉवर प्लांट को बंद करवाया गया। जीतू पटवारी ने प्रश्न किया कि सिंगाजी पॉवर प्लांट कब चालू होगा और जो प्रति माह 3 हजार करोड़ रूपए की बिजली बनती और बिकती उसका घाटा सरकार किससे वसूलेगी इसकी जिम्मेदारी किसकी है। क्या 3 लाख घंटे की गारंटी वाला टरबाईन 30 हजार घंटे भी नहीं चला और पीजी गारंटी टेस्ट क्यों नहीं हुआ इसके लिए सरकार किस अधिकारी को जिम्मेदार मानकर निलंबित करेगी। जीतू पटवारी ने कह कि क्या शिवराज सरकार जब तक यह प्लांट चालू नहीं होता इसके मूल्यांकन का काम करेगी और इसे लेकर सरकार की आगें की क्या कार्य योजना है।

 

इसे भी पढ़ें: आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश की नींव रखेगा प्रदेश सरकार का बजट- विष्णुदत्त शर्मा

पूर्व मंत्री व विधायक जीतू पटवारी ने कहा कि उन्होंने निमय 52 के तहत विधानसभा अध्यक्ष से सदन में श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना के दीर्घकालिक बंद होने, सटडाउन के लिए निर्माता तथा अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करने और इस सटडाउन से कुल हानि के विषय पर आधे घंटे की चर्चा के लिए समय मांगा है। क्योंकि मेरे द्वारा तांरांकित प्रश्न के जबाब में सरकार की तरफ से जो जबाब आया है उसमें अपूर्ण था और इसमें कई तथ्यों को सरकार की तरफ से छिपाया गया है। लॉकडाउन के नाम पर तीन महिने अप्रैल 2020 से जून 2020 तक बंद रहा। जिससे प्रदेश को हर माह 1320 मेगावाट बिजली की मात्रा नहीं मिली और सरकार ने इसके चलते सरकार ने कई गुना मंहगी दरों पर बिजली की खरीदी की। उन्होंने नियम 52 के तहत चर्चा की मांग करते हुए विधानसभा अध्यक्ष को लिखा कि प्रश्न लगाने के बाद 03 फरवरी 2021 को जाँच समिति का गठन किया गया जो घटनाक्रम पर गंभीर संकाओं को जन्म देता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


शशिकला ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 3, 2021   21:54
  • Like
शशिकला ने राजनीति से संन्यास का किया ऐलान

तमिलनाडु चुनाव से पहले शशिकला ने बयान जारी करके संन्यास का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि सत्ता और पड़ कभी लक्ष्य नहीं रहा।

 पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है लेकिन तमिलनाडु की सियासत से एक बड़ी खबर सामने आई है। तमिलनाडु चुनाव से पहले शशिकला ने बयान जारी करके संन्यास का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि सत्ता और पड़ कभी लक्ष्य नहीं रहा। शशिकला ने तमिलनाडु की जनता का आभार व्यक्त किया इसके साथ ही कार्यकर्ताओं से डीएमके को चुनाव में हराने की अपील की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


उद्धव ने कहा- किसानों के रास्तों में कील-कांटे और चीन को देखकर भाग जाते, बीजेपी ने किया पलटवार

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 3, 2021   20:54
  • Like
उद्धव ने कहा- किसानों के रास्तों में कील-कांटे और चीन को देखकर भाग जाते, बीजेपी ने किया पलटवार

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानसभा में कहा किसान परेशान है, बिजली और पानी की सप्लाई रोकी जा रही है। उनके रास्तों में कील-कांटे बिछाए जा रहे हैं। लेकिन चीन को देखते ही भाग जाते हैं।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज केंद्र सरकार पर हमला बोला है। कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को लेकर उद्धव ठाकरे ने कहा कि वे मुश्किल में हैं और केंद्र सरकार उनके रास्तों में कील-कांटे बिछा रही है। उन्होंने कहा कि किसानों की बिजलियां काटी जा रही है और पानी की सप्लाई रोकी जा रही है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानसभा में कहा किसान परेशान है, बिजली और पानी की सप्लाई रोकी जा रही है। उनके रास्तों में कील-कांटे बिछाए जा रहे हैं। लेकिन चीन को देखते ही भाग जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 7,863 नए मामले, 54 और मरीजों की मौत

उद्धव ठाकरे के बयान को लेकर महाराष्ट्र में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने निशाना साधा है। फडणवीस ने कहा कि इस तरह के बयान देकर मुख्यमंत्री ने हमारे सैनिकों के शौर्य का अपमान करने का काम किया है। मैं इसकी भर्त्सना करता हूं। हमारे सैनिकों ने 30 डिग्री तापमान में चीन के सैनिकों का मुकाबला कर उन्हें खदेड़ा है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept