गौतम गंभीर ने डीडीए से यमुना खेल परिसर का नाम बदल भगत सिंह के नाम पर रखने का किया आग्रह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   20:44
गौतम गंभीर ने डीडीए से यमुना खेल परिसर का नाम बदल भगत सिंह के नाम पर रखने का किया आग्रह

डीडीए के उपाध्यक्ष को लिखे पत्र में भाजपा सांसद ने कहा गया है कि भारत जब भी स्वतंत्रता पर गर्व महसूस करेगा, वह हमेशा उन महापुरुषों के बलिदान के प्रति नतमस्तक रहेगा, जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।

नयी दिल्ली। पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर ने दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) से यमुना खेल परिसर का नाम बदलकर इसे स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह के नाम पर रखने का आग्रह करते हुए कहा कि महान क्रांतिकारी को सम्मान देने की दिशा में यह एक छोटा कदम होगा। डीडीए के उपाध्यक्ष को लिखे पत्र में भाजपा सांसद ने नगरीय निकाय से परिसर के मुख्य द्वार पर क्रांतिकारी की विशाल प्रतिमा स्थापित करने की भी अपील की। पूर्वी दिल्ली में स्थित विशाल यमुना खेल परिसर राष्ट्रीय राजधानी के प्रमुख खेल स्थलों में से एक है। सांसद ने यह अपील भारत की आजादी की 75वीं वर्षगाँठ से पहले की है, जिसे केंद्र सरकार ने बड़े पैमाने पर मनाने की योजना बनाई है। 

इसे भी पढ़ें: योग गुरु स्वामी रामदेव की बढ़ी मुश्किलें, एलोपैथी दवाओं पर दिये बयान को लेकर HC ने जारी किया नोटिस 

पत्र में कहा गया है, भारत जब भी स्वतंत्रता पर गर्व महसूस करेगा, वह हमेशा उन महापुरुषों के बलिदान के प्रति नतमस्तक रहेगा, जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। अविभाजित पंजाब में जन्मे सिंह को 1931 में तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने फाँसी दे दी थी। भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धांजलि देने के लिए 23 मार्च को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है। इन क्रांतिकारियों को ब्रिटिश पुलिस अधिकारी जे पी सॉन्डर्स की हत्या के लिए फांसी दी गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।