गहलोत ने जैसलमेर में कहा- विधायक दल की बैठक में पार्टी अध्यक्ष पर भरोसे का एक लाइन का प्रस्ताव पारित होने की संभावना

Gehlot
ANI
गहलोत ने जैसलमेर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि ‘‘कांग्रेस में शुरू से ही यह परंपरा रही है कि चुनाव के समय या मुख्यमंत्री के चयन के लिए जब भी विधायक दल की बैठक होती है, तो कांग्रेस अध्यक्ष को सभी अधिकार देने के लिए एक लाइन का प्रस्ताव जरूर पारित किया जाता है।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को कहा आज शाम होने वाली विधायक दल की बैठक के दौरान एक लाइन का प्रस्ताव पारित किये जाने की संभावना है जिसमें लिखा होगा, कांग्रेस के सभी विधायकों को पार्टी अध्यक्ष के फैसले पर पूरा भरोसा है। उन्होंने कहा कि पार्टी के सभी नेता आम सहमति पर पहुंचने के लिए चर्चा करेंगे और यही कांग्रेस की ताकत रही है। गहलोत ने जैसलमेर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि ‘‘कांग्रेस में शुरू से ही यह परंपरा रही है कि चुनाव के समय या मुख्यमंत्री के चयन के लिए जब भी विधायक दल की बैठक होती है, तो कांग्रेस अध्यक्ष को सभी अधिकार देने के लिए एक लाइन का प्रस्ताव जरूर पारित किया जाता है, मैं समझता हूं कि यह आज भी होगा। उन्होंने कहा कि सब मिलकर एक जुट होकर बात करेंगे और यही कांग्रेस की ताकत भी है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने राजस्थान में रविवार को बुलाई विधायक दल की बैठक

कांग्रेस अध्यक्ष में सब एक स्वर में विश्वास रखते है। राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन ने जयपुर में संवाददाताओं से कहा कि बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी बाद में मीडिया को दी जाएगी। माकन ने कहा (मल्लिकार्जुन) खड़गे जी और मैं यहां बैठक में शामिल होने के लिए आए हैं। इसके बारे में बाद में आपको सूचित किया जाएगा। मैं अभी इससे ज्यादा कुछ नहीं बता सकता। वरिष्ठ नेता खड़गे ने कहा कि आलाकमान ने उन्हें सभी विधायकों से मिलने को कहा है। उन्होंने कहा, मुझे सभी विधायकों से मिलने के लिए कहा गया है। हम उनसे मिलेंगे और उनके विचार लेंगे और उसके बाद हम (मीडिया) सूचित करेंगे। राजस्थान में यह एक सप्ताह के भीतर कांग्रेस विधायक दल की दूसरी बैठक है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्‍थान में निर्यातकों के लिए विभिन्न छूटों को गहलोत ने दी मंजूरी

पिछली बैठक 20 सितंबर को मुख्यमंत्री आवास पर उपराष्ट्रपति के सम्मान में दिए गए रात्रि भोज के बाद हुई थी। गहलोत शुक्रवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए उम्मीदवारी की घोषणा करने वाले पहले व्यक्ति बने थे। उन्होंने दावा किया था कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनसे कहा है कि पार्टी का अगला प्रमुख गांधी परिवार से नहीं होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि उनके उत्तराधिकारी के बारे में फैसला सोनिया गांधी और माकन करेंगे। गहलोत का यह बयान राहुल गांधी द्वारा ‘एक व्यक्ति, एक पद’ की अवधारणा का समर्थन करने के मद्देनजर आया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़