गोवा के मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन बढ़ाने का किया समर्थन, बोले- खुलना चाहिए मॉल, जिम और रेस्तरां

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   16:31
गोवा के मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन बढ़ाने का किया समर्थन, बोले-  खुलना चाहिए मॉल, जिम और रेस्तरां

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सांवत ने कहा कि गोवा लॉकडाउन की बढ़ी हुई अवधि में मॉल, रेस्तरां और जिम खोलने की वकालत करता है।

पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सांवत ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमण की मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए लॉकडाउन की मियाद को मौजूदा 31 मई से बढ़ाकर 15 जून तक किया जाना चाहिए। उल्लेखनीय है कि देश में कोविड-19 मरीजों की संख्या बढ़कर 1.6 लाख के पार हो गई है। सावंत ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से बृहस्पतिवार को फोन पर बात की थी।इस दौरान उन्होंने लॉकडाउन की अवधि 15 दिन और बढ़ाने का सुझाव दिया। साथ ही, गोवा में और ढील देने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि गोवा लॉकडाउन की बढ़ी हुई अवधि में मॉल, रेस्तरां और जिम खोलने की वकालत करता है। 

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने PM मोदी से की मुलाकात, लॉकडाउन का लेकर मुख्यमंत्रियों के विचारों से कराया अवगत 

उन्होंने कहा कि 50 प्रतिशत कर्मिचारियों के साथ और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए निर्धारित सामाजिक दूरी एवं अन्य नियमों का सख्ती से अनुपालन के साथ ये सेवाएं (जिम, मॉल, रेस्तरां) खोली जा सकती हैं। सांवत ने कहा कि राज्य सरकार लॉकडाउन पर केंद्रीय गृह मंत्रालय के ताजा दिशानिर्देशों की प्रतीक्षा कर रही है जिसके शनिवार को घोषित किए जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि दिशानिर्देशों को समझने के बाद हम जान पाएंगे कि गोवा को संबंधित रियायत मिली है या नहीं।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड में कोरोना वायरस के 102 नए मरीज, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 602 हुई 

मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि कोविड-19 महामारी के बाद गोवा देश में छुट्टियां मनाने का सबसे पसंदीदा स्थान होगा। उन्होंने कहा कि देश के अन्य पर्यटन स्थानों की तुलना में गोवा घरेलू और अंतरराष्ट्रीय यात्रियों का सबसे पसंदीदा स्थान होगा। इस बीच, मुख्यमंत्री ने पणजी में 1,300 सीटों की क्षमता वाले कंनवेंशन सेंटर का शिलान्यास किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।