डीआईजी व एसएसपी ने बीट पुलिस अफसर के साथ किया संगोष्ठी

डीआईजी व एसएसपी ने बीट पुलिस अफसर के साथ किया संगोष्ठी
प्रतिरूप फोटो

बीट पुलिस अधिकारी थाना क्षेत्र में पड़ने वाले निर्धारित जनसंख्या की छोटे से छोटे हिस्से में आने वाले किसी भी अपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्तियों के खिलाफ अपने अधिकार का प्रयोग कर सकता है। इस दौरान सभी बीट पुलिस अधिकारियों की बीटबुक को चेक किया गया एवं उनमें आवश्यक सुधार के दिशा निर्देश दिए गए।

गोरखपुर। पुलिस उपमहानिरीक्षक गोरखपुर परिक्षेत्र जे रविन्द्र गौड़, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गोरखपुर डॉ विपिन ताडा व पुलिस अधीक्षक नगर सोनम कुमार द्वारा नगर सर्किल उत्तरी सर्किल के "बीट पुलिस अधिकारी" का संगोष्ठी, बाबा गंभीर नाथ प्रेक्षागृह सभागार में आयोजन किया गया। जिसमें बीट पुलिस अधिकारी से सीधा संवाद किया गया। इस संगोष्ठी के माध्यम से जनपद में बीट पुलिसिंग को बढ़ावा दिया जा रहा है। बीट पुलिसिंग के माध्यम से किसी भी थाना क्षेत्र में उपस्थित बीट पुलिस अधिकारी को उसके अपने क्षेत्र में निरोधात्मक कार्यवाही करने का अधिकार दिया जाता है। बीट पुलिस अधिकारी थाना क्षेत्र में पड़ने वाले निर्धारित जनसंख्या की छोटे से छोटे हिस्से में आने वाले किसी भी अपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्तियों के खिलाफ अपने अधिकार का प्रयोग कर सकता है। इस दौरान सभी बीट पुलिस अधिकारियों की बीटबुक को चेक किया गया एवं उनमें आवश्यक सुधार के दिशा निर्देश दिए गए। 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका गांधी की गोरखपुर यात्रा को लेकर कांग्रेस की तैयारियां तेज

 इस व्यवस्था के अनुसार सभी बीट आरक्षी/मुख्य आरक्षी अपने बीट क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा मौजूद रहकर वहां के संभ्रान्त लोगों से नियमित संपर्क में रहेंगे तथा उनका एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाएंगें। गांव के पंचायत भवन एवं प्राथमिक विद्यालयों पर संबन्धित बीट पुलिस अधिकारी के नाम एवं मोबाईल नम्बर अंकित कराये गये हैं। साथ ही समस्त बीट पुलिस अधिकारी द्वारा अपने अपने क्षेत्रान्तर्गत अपने नाम एवं मोबाईल नम्बर का पम्पलेट बनाकर चस्पा किये जा रहे हैं। इस व्यवस्था के लागू होने से जहां एक तरफ थानों की कार्यशैली में और सुधार होगा वहीं दूसरी तरफ बीट पुलिस अधिकारी के लगातार अपने क्षेत्र में जाने से पुलिस एवं जनता के मध्य एक मित्रवत संबन्ध स्थापित होगा और वह उनके सुख-दुख के साथी के रूप में भी बीट पुलिस अधिकारी की सहभागिता होगी। पुलिस उपमहानिरीक्षक गोरखपुर परीक्षेत्र जे रविंद्र गौड़ ने बिट पुलिस अफसरों से कहा कि बीट ड्यूटी के दौरान बीट पुलिस अफसरों को  दुविधाजनक परिस्थियों का सामना भी करना पड़ सकता है क्यों की बीट ड्यूटी के दौरान उसे विभिन्न प्रकार के व्यक्तिओं जैसे सभ्य, सुशिल ,शिक्षित, अशिक्षित, आम नागरिक, बच्चे,बुड्ढे महिलाओं के अलावा बदमाशों दुश्चरित्र व्यक्तिओं,  शराबीओं, नशेडिओं व   इसी प्रकार के आपराधिक कार्यो में  लिप्त व्यक्तिओ के बिच रहकर कार्य करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: संयुक्त किसान मोर्चा ने एसडीएम सहजनवा को सौंपा ज्ञापन

ऐसे व्यक्तिओं के संपर्क में  आने पर पुलिस पुलिस अफसर  का व्यवहार सौम्य सभ्य एवं विनम्र रहे  बीट पुलिस अफसर के व्यवहार में  विचलन आना स्वाभाविक ही है क्योंकि मानवीय व्यवहार पल पल  परिस्थितियों के साथ परिवर्तित होता रहता है,फिर पुलिस कर्मी भी मनुष्य है जिसका व्यवहार परिवर्तित होना स्वाभाविक है बीट पुलिस अफसर  की ड्यूटी के दौरान  परिस्थितियां चाहे कैसे भी हों,  पुलिस कर्मियों को  बीट ड्यूटी के दौरान संयम  धैर्य, निष्ठा,निष्पक्षता,सावधानी एवं सतर्कता के साथ कर्तव्य पालन करना चाहिए।इस दौरान सहायक पुलिस अधीक्षक क्षेत्राधिकारी कैंट राहुल भाटी, क्षेत्राधिकारी कोतवाली विमल कुमार सिंह, क्षेत्राधिकारी गोरखनाथ रत्नेश सिंह,  क्षेत्राधिकारी कैंपियरगंज अजय कुमार सिंह,क्षेत्र अधिकारी चौरी चौरा जगत राम कनौजिया,रीडर पीआरओ साहित्य नगर व उत्तरी सर्किल के थाना अध्यक्ष व बीट पुलिस अफसर मौजूद रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।