राज्यपाल धनखड़ बोले, बंगाल विधानसभा चुनाव हिंसा मुक्त होने चाहिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2021   12:55
राज्यपाल धनखड़ बोले, बंगाल विधानसभा चुनाव हिंसा मुक्त होने चाहिए

राज्यपाल ने कहा कि नेता राजनीति में शामिल होंगे, उनका लक्ष्य तो बस संविधान एवं लोकतंत्र की रक्षा करना है। उन्होंने कहा, ‘‘सभी को गांधी जी के अहिंसा के सिद्धांत का पालन करना चाहिए। वह शांति के दूत थे।’

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शनिवार को महात्मा गांधी को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि अप्रैल-मई में संभावित विधानसभा चुनाव हिंसा मुक्त होने चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता ने अहिंसा का पाठ पढाया था और चुनाव में उसका पालन किया जाना चाहिए। धनखड़ ने कहा, ‘‘हमारे पास2021 के चुनाव को हिंसा से मुक्त करने का अवसर है। आगामी चुनाव 2018 के (पंचायत) चुनाव की भांति खून-खराबे से दागदार नहीं होने चाहिए। इस बार पूरी तरह अहिंसा एवं शांति की बयार बहनी चाहिए।’’ 

इसे भी पढ़ें: ममता को झटका, TMC के 5 नेता अमित शाह से मुलाकात के बाद BJP में शामिल हुए

उन्होंने कहा कि वह किसी राजनीतिक सोच से ऐसा नहीं कह रहे हैं। यहां मेयो रोड पर महात्मा गांधी की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद राज्यपाल ने कहा कि नेता राजनीति में शामिल होंगे, उनका लक्ष्य तो बस संविधान एवं लोकतंत्र की रक्षा करना है। उन्होंने कहा, ‘‘सभी को गांधी जी के अहिंसा के सिद्धांत का पालन करना चाहिए। वह शांति के दूत थे।’’ इस पर पश्चिम बंगाल के मंत्री ब्रत्य बसु ने कहा कि राज्यपाल ने ‘‘ अवश्य ही यह ध्यान में रखकर ये शब्द कहे होंगे कि इसी दिन गांधीजी को फासीवादी ताकतों ने गोलियों से छलनी कर डाला था। हमारे राज्य में, हम हमेशा ऐसी ताकतों का विरोध करते रहेंगे।’’ महात्मा गांधी की 1948 में नाथुराम गोडसे ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उनकी पुण्यतिथि को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।