राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने पद्मश्री विद्यानंद सरैक को किया सम्मानित

राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर   ने पद्मश्री विद्यानंद सरैक को किया सम्मानित

राज्यपाल ने कहा कि यह हिमाचलवासियों के लिए गर्व की बात है कि विद्यानंद सरैक को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि श्री सरैक ने हिमाचली संस्कृति और सिरमौर की पारम्परिक सांस्कृतिक विरासत के संवर्द्धन के लिए सराहनीय कार्य किया है। उन्हें विश्वास जताया कि उनका यह अनथक प्रयास हिमाचली संस्कृति तथा लोक विद्याओं को नई ऊंचाइयों की ओर लेकर जाएगा।

शिमला    राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आज राजभवन में विद्यानंद सरैक को सम्मानित किया, जिन्हंे हाल ही में देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से अलंकृत किया गया है। राज्यपाल ने श्री सरैक को परिवार सहित राजभवन में दोपहर भोज के लिए आमंत्रित किया। राज्यपाल ने उन्हें ‘प्रशस्ति पत्र’, हिमाचली शॉल व टोपी तथा स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। उन्होंने उनकी धर्मपत्नी गीता सरैक को भी सम्मानित किया।

इस अवसर पर, राज्यपाल ने कहा कि यह हिमाचलवासियों के लिए गर्व की बात है कि विद्यानंद सरैक को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि श्री सरैक ने हिमाचली संस्कृति और सिरमौर की पारम्परिक सांस्कृतिक विरासत के संवर्द्धन के लिए सराहनीय कार्य किया है। उन्हें विश्वास जताया कि उनका यह अनथक प्रयास हिमाचली संस्कृति तथा लोक विद्याओं को नई ऊंचाइयों की ओर लेकर जाएगा। यह सम्मान अन्य कलाकारों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनेगा तथा उनमें नई ऊर्जा एवं स्फूर्ति का संचार करेगा।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश की सांफिआ फाउंडेशन ऑस्ट्रीआ में सम्मानित

राज्यपाल ने कहा कि विद्यानंद सरैक की कला की पूरे देश ने सराहना की है। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि हिमाचल में देव परम्परा लोक संस्कृति से जुड़ी है। इस संगीत परम्परा को जीवित रखने के लिए अनुसंधान और शोध की आवश्यकता है। उनका प्रयास है कि हिमाचल में संगीत महाविद्यालय स्थापित किया जाए ताकि यह परम्परा आगे बढ़ सके। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति की अनेक विशेषताएं हैं, जिन्हें समझने और भावी पीढ़ी तक पहुंचाने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें: धर्मशाला में मैच देखने आएंगे उनके लिए अलग-अलग स्थानों में पार्किंग की व्यवस्था की गई है

इस अवसर पर, पदमश्री विद्यानंद सरैक ने राज्यपाल का आभार व्यक्त किया तथा कहा कि अपनी उच्च संस्कृति को आश्रय देने से समाज और देश आगे बढ़ेगा। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री यशवंत सिंह परमार की सादगी और संस्कृति के संरक्षण में योगदान की चर्चा की और कहा कि उनकी प्रेरणा से ही वह इस दिशा में आगे बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि पहली बार किसी राज्यपाल द्वारा राजभवन बुलाकर इस तरह सम्मानित करने से वह निश्ंिचत हैं कि उन्हें देखने वाला भी कोई है। सरैक की पौत्री बंदना सरैक जो बड़ु साहिब से संगीत में पी.एच.डी. कर रही हैं, ने राज्यपाल के समक्ष लोक गीत की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर, विद्यानंद सरैक के पुत्र ओम प्रकाश सरैक और रमेश सरैक भी उपस्थित थे।

 

इसे भी पढ़ें: पहले ही दिन राज्यपाल के अभिभाषण के बीच कांग्रेस विधायकों का सदन से वाकआउट

 

राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ अर्लेकर 26 फरवरी, 2022 से 28 फरवरी, 2022 तक कांगड़ा प्रवास पर रहेंगे। राज्यपाल 26 फरवरी को प्रातः 10.30 बजे अग्रवाल धर्मशाला, ज्वालामुखी में संस्कृत भारती प्रान्त सम्मेलन कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि शिरकत करेंगे। इसके उपरांत दोपहर बाद 2.30 बजे धर्मशाला में स्वच्छता किट वितरित करेंगे। इस दिन रात्रि ठहराव सर्किट हाऊस धर्मशाला में रहेगा।

राज्यपाल 27 फरवरी को प्रातः 10.30 बजे होटल उत्सव पैलेस, कच्छियारी में प्राकृतिक खेती खुशहाल किसान योजना के अंतर्गत प्राकृतिक खेती युवा उद्यमी कार्यशाला में बतौर मुख्यातिथि शिरकत करेंगे। 28 फरवरी को महामहिम राज्यपाल पालमपुर में प्रातः 10 बजे सीएसआईआर-आईएचबीटी संस्थान का दौरा करेंगे। महामहिम राज्यपाल बाद दोपहर 3.30 बजे हमीरपुर के लिए रवाना होंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।