कोलकाता के पुलिस आयुक्त ने SC में कहा, 5 दिनों में 40 घंटों तक हुई पूछताछ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 19, 2019   09:14
कोलकाता के पुलिस आयुक्त ने SC में कहा, 5 दिनों में 40 घंटों तक हुई पूछताछ

उच्चतम न्यायालय ने पांच फरवरी को चिट फंड घोटाले के संबंध में कुमार को हर समय जांच एजेंसी के साथ ईमानदारी से सहयोग करने का निर्देश दिया था।

नयी दिल्ली। कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय में कहा कि सारदा चिट फंड घोटाले के सिलसिले में सीबीआई ने उनसे पांच दिनों में 40 घंटे तक पूछताछ की। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह बहुत ही रहस्यमय था कि एजेंसी ने उनसे पूछताछ का बड़ा फैसला तीन फरवरी को क्यों लिया जो तत्कालीन अंतरिम सीबीआई निदेशक एम नागेश्वर राव का अंतिम दिन था।

इसे भी पढ़ें: कुणाल घोष ने कोलकाता पुलिस प्रमुख पर आरोप लगाते हुए सीबीआई को लिखा पत्र

न्यायालय ने पांच फरवरी को चिट फंड घोटाले के संबंध में कुमार को हर समय जांच एजेंसी के साथ ईमानदारी से सहयोग करने का निर्देश दिया था। न्यायालय ने आदेश दिया था कि एजेंसी उनकी गिरफ्तारी सहित कोई भी कठोर कदम नहीं उठाएगी। यह आदेश तीन फरवरी की घटना के दो दिन बाद आया था जिसमें सीबीआई ने आरोप लगाया था कि उसके अधिकारी कुमार से पूछताछ करने गए थे और उन्हें पुलिस हिरासत में बंद कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: कोलकाता पुलिस प्रमुख, पूर्व सांसद पूछताछ के लिए सीबीआई के समक्ष हुए पेश

एजेंसी ने यह भी आरोप लगाया था कि राज्य पुलिस ने उसके संयुक्त निदेशक विकास श्रीवास्तव के आवास को घेर लिया था। कुमार ने अपने हलफनामे में दावा किया कि उन्होंने सीबीआई के सभी सवालों के संतोषप्रद जवाब दिए। सीबीआई ने मेघालय में शिलांग के तटस्थ स्थान पर पांच दिनों में 40 घंटे तक पूछताछ की। उन्होंने कहा कि वह आठ फरवरी की शाम शिलांग पहुंचे और नौ फरवरी को सुबह 11 बजे जांच में शामिल हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।