गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब की प्रबंधक समिति ने दिया इस्तीफा, पुष्कर सिंह धामी के आगमन के दौरान हुआ था हंगामा !

गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब की प्रबंधक समिति ने दिया इस्तीफा, पुष्कर सिंह धामी के आगमन के दौरान हुआ था हंगामा !

पुष्कर सिंह धामी 24 जुलाई को गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब पहुंचे थे और उनके स्वागत के दौरान नृत्य कार्यक्रम का आयोजन हुआ था। जिसे तुरंत ही रुकवा दिया गया लेकिन इसका वीडियो वायरल हो गया।

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को लेकर गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब की प्रबंधक समिति ने इस्तीफा दे दिया है। जिसके बाद गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब के प्रबंधक का कार्य को देखने के लिए पांच सदस्यीय समिति का गठन किया गया है। दरअसल, पुष्कर सिंह धामी 24 जुलाई को गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब पहुंचे थे और उनके स्वागत के दौरान नृत्य कार्यक्रम का आयोजन हुआ था। जिसे तुरंत ही रुकवा दिया गया लेकिन इसका वीडियो वायरल हो गया। बता दें कि इस कार्यक्रम को धार्मिक आचार संहिता का उल्लंघन माना गया है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड के चंपावत में भूस्खलन के कारण फंसे लोग, मुख्यमंत्री ने आपदा प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा 

क्या है पूरा मामला

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी 24 जुलाई को गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब में मत्था टेकने पहुंचे थे। इस दौरान सूचना एवं सांस्कृतिक विभाग ने मुख्यमंत्री के स्वागत को लेकर एक कार्यक्रम का आयोजन किया था। लेकिन मुख्यमंत्री के आगमन पर कार्यक्रम टिनशेड के नीचे शुरू हो गया। जिसे सेवादारों ने तत्काल प्रभाव में बंद करा दिया। हालांकि किसी ने इसका वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया।

सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट होते ही वायरल हो गया और प्रबंधक समिति पर सवाल खड़े होने लगे। जिसके बाद शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने जांच के आदेश दे दिए और प्रबंधक समिति के सभी सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने सोमवार को दावा किया था कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब की यात्रा के दौरान धार्मिक आचार संहिता का उल्लंघन हुआ था। आपको बता दें कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सिखों की शीर्ष धार्मिक संस्था है। 

इसे भी पढ़ें: नहीं होगी चारधाम यात्रा की लाइव स्ट्रीमिंग, सीएम धामी बोले- वेदों में नहीं लिखा 

इस संबंध में एसजीपीसी प्रमुख बीबी जागीर कौर ने कहा था कि गुरुद्वारे की अपनी आचार संहिता होती है जिसका उल्लंघन किसी को भी नहीं करना चाहिए। लेकिन गुरुद्वारा की आचार संहिता का उल्लंघन होने से सिखों की भावनाएं आहत हुई हैं। इतना ही नहीं श्री अकाल तख़्त साहब के आदेशानुसार मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। इस समिति ने प्रबंधकों के बयान भी दर्ज कर लिए हैं।

बीबी जागीर कौर ने बताया कि जांच समिति जल्द ही मामले की रिपोर्ट श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को सौंपेगी और उसी के आधार पर कार्रवाई होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।