ग्वालियर बीजेपी के महानगर अध्यक्ष का वीडियो हुआ वायरल,जूते पहन कर दी पुष्पांजलि और पूर्णाहुति

Bjp office gwalior
सुयश भट्ट । Aug 31, 2021 12:50PM
सुंदरकांड समाप्त होने के बाद जब पुष्पांजलि और पूर्णाहुति के लिए सभी को बुलाया गया तो जयभान सिंह पवैया ने तो जूते उतार दिए और उनके साथ वहां खड़े करीब 20 से 25 लोगों में किसी के भी पैर में जूते नहीं थे।
भोपाल। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले के बीजेपी अध्यक्ष अपनी गलती के चलते विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं। दरअसल सुंदरकांड पाठ में जूते पहनकर शामिल होने पर कमल माखीजानी विपक्ष के निशाने पर हैं। एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमे नजर आ रहा है कि पाठ खत्म होने के बाद जब आहूति की बारी आई, तब भी उन्होंने जूता नहीं उतारा। इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस नेता के के मिश्रा ने कहा है कि देख लो हिंदुत्व के ठेकेदार का कारनामा।

इसे भी पढ़ें:कर्ज से जूझ रही मध्य प्रदेश सरकार, फिर से 2 हजार करोड़ रुपए का लेने जा रही कर्जा

दरअसल कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने ट्वीट कर बीजेपी और ग्वालियर जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी पर तंज कसा है। केके मिश्रा ने ट्वीट कर लिखा कि आज स्व. कुशाभाऊ ठाकरे जी का जन्म शताब्दी पर ग्वालियर में उन्हें आदरांजलि, करने के लिए सुंदरकांड का पाठ भी हुआ, तदपश्चात मंत्र पुष्पांजलि भी हुई। हिंदुत्व के ठेकेदार जिला भाजपा के अध्यक्ष कमल माखीजानी जूते पहनकर सुंदरकांड और ठाकरे जी को नमन करते हुए? यह है भगवान और दिवंगत आत्मा का का सम्मान?

आपको बता दें कि सोमवार को ग्वालियर में भी बीजेपी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे की जयंती पर समारोह आयोजित किया गया था। कुशाभाऊ ठाकरे को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के साथ-साथ उनके लिए एक सुंदरकांड पाठ का आयोजन किया था।

इसे भी पढ़ें:स्कूल और कॉलेज के शिक्षक , स्टाफ और 18 साल से अधिक छात्रों के लिए लगा है विशेष वैक्सीनेशन कैम्प 

वहीं सुंदरकांड समाप्त होने के बाद जब पुष्पांजलि और पूर्णाहुति के लिए सभी को बुलाया गया तो जयभान सिंह पवैया ने तो जूते उतार दिए और उनके साथ वहां खड़े करीब 20 से 25 लोगों में किसी के भी पैर में जूते नहीं थे। सिर्फ बीजेपी महानगर अध्यक्ष कमल माखीजानी जूते पहने हुए ही पुष्पांजलि अर्पित करते दिखे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़