स्कूल और कॉलेज के शिक्षक , स्टाफ और 18 साल से अधिक छात्रों के लिए लगा है विशेष वैक्सीनेशन कैम्प

स्कूल और कॉलेज के शिक्षक , स्टाफ और 18 साल से अधिक छात्रों के लिए लगा है विशेष वैक्सीनेशन कैम्प

मंगलवार के लिए 15 लाख से ज्यादा वैक्सीन जिलों को उपलब्ध कराई गई है। डॉ संतोष शुक्ला ने कहा कि वैक्सीन का सर्टिफिकेट दिखाने पर ही स्कूल और कॉलेज स्टाफ को प्रवेश मिलेगा

भोपाल। मध्य प्रदेश में मंगलवार को प्रदेश में 15 लाख टीके लगाने का लक्ष्य रखा गया है। कोरोना के संक्रमण को तोड़ने के लिए प्रदेश में लगातार वैक्सीनेशन हो रहा है। लेकिन अब इसमें स्कूल-कॉलेज के शिक्षक, स्टॉफ और 18+ से अधिक उम्र के छात्रों को वैक्सीन लगाने की प्राथमिकता के निर्देश दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें:राजस्थान के नागौर में दर्दनाक सड़क हादसा, गाड़ी के परखच्चे उड़े, 11 श्रद्धालुओं की मौत 

आपको बता दें कि राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. संतोष शुक्ला ने जानकारी देते हुए कहा कि राज्य में स्कूल-कॉलेज खोलने की प्रक्रिया चल रही है। और स्कूल विभाग और उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने अपने शिक्षकों, स्टाफ और 18+ के छात्रों का वैक्सीनेशन सुनिश्चित करने के लिए कहा है। उन्होंने आगे कहा कि 5 सितंबर तक शिक्षक, गैर टीचिंग स्टाफ और छात्रों को प्राथमिकता से वैक्सीन लगाने का अभियान चलेगा।

इसे भी पढ़ें:MP में वैक्सीनेशन महाअभियान के चलते प्रदेश ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड, 24 लाख से ज्यादा लोगों को लगा है वैक्सीन 

वहीं मंगलवार के लिए 15 लाख से ज्यादा वैक्सीन जिलों को उपलब्ध कराई गई है। डॉ संतोष शुक्ला ने कहा कि वैक्सीन का सर्टिफिकेट दिखाने पर ही स्कूल और कॉलेज स्टाफ को प्रवेश मिलेगा। इसलिए उनसे अपील है कि जो लोग वैक्सीन लगाने से छूट गए हैं, वह अपना वैक्सीनेशन कराएं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।