कृषि कानूनों को लेकर कांग्रेस-अकाली आमने-सामने, संसद के बाहर हरसिमरत कौर और रवनीत बिट्टू के बीच तीखी नोकझोंक

कृषि कानूनों को लेकर कांग्रेस-अकाली आमने-सामने, संसद के बाहर हरसिमरत कौर और रवनीत बिट्टू के बीच तीखी नोकझोंक

कांग्रेसी नेता ने अकाली दल के प्रदर्शन को नकली कहा और हरसिमरत कौर पर आरोप लगाया कि आपने कैबिनेट में कृषि कानूनों वाला बिल पास कराया।

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष लगातार विरोध कर रहा है। इन सब के बीच आज संसद के बाहर अजीबोगरीब स्थिति देखी गई। कृषि कानून को लेकर शिरोमणि अकाली दल की नेता और पूर्व मंत्री हरसिमरत कौर बादल और कांग्रेस के सांसद रवनीत सिंह बिट्टू संसद के बाहर ही आपस में भिड़ गए। एएनआई द्वारा जारी वीडियो में साफ तौर पर देखा जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच जमकर नोकझोंक हो रही है। कांग्रेस नेता ने अकाली दल के प्रदर्शन को नकली कहा और हरसिमरत कौर पर आरोप लगाया कि आपने कैबिनेट में कृषि कानूनों वाला बिल पास कराया। 

इसे भी पढ़ें: नहीं थमा राज्यसभा में हंगामा, दो बार के स्थगन के बाद बैठक पूरे दिन के लिए स्थगित

वहीं हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि ऐसा हमने बिल्कुल नहीं कराया है। मैंने इस्तीफा दिया जबकि पंजाब में कांग्रेस सरकार ने इसके विरोध में कुछ नहीं क्या। बिट्टू ने कहा कि यह रोज ड्रामा करते हैं। इन्होंने पहले बिल पास कराया, फिर घर जाके इस्तीफा दिया। इसके जवाब में हरसिमरत कौर ने कहा कि इनसे पूछिए कि जब बिल पास हुआ तो राहुल गांधी कहां थे, सोनिया गांधी कहां थीं। हरसिमरत कौर ने साफ तौर पर कहा कि कांग्रेस ने वॉकआउट कर के किसान के खिलाफ बिल पास कराने में सरकार की मदद की है।

इसे भी पढ़ें: जासूसी कांड और मंहगाई पर सरकार की घेराबंदी के लिए राहुल की नाश्ता नीति, विपक्षी दलों के साथ किया साइकिल मार्च

बिट्टू ने कहा कि 5 दिन से अकाली दल के अध्यक्ष गायब है। वह पार्लियामेंट पर नहीं है। जबकि हरसिमरत कौर ने लगातार बिट्टू पर झूठ बोलने का आरोप लगाया और कहा कि जब बिल पास हो रहा था तो आप कहां थे। उन्होंने पंजाब के कांग्रेस सरकार को किसान विरोधी बताया। लेकिन बिट्टू साफ तौर पर यह कहते रहे कि पहले यह लोग पार्लियामेंट में बिल पास करवाया और अब ड्रामा कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।