हेलिकॉप्टर के ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का भोपाल से है नाता, 2 सप्ताह पहले 10 दिन के लिए आए थे भोपाल

हेलिकॉप्टर के ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का भोपाल से है नाता, 2 सप्ताह पहले 10 दिन के लिए आए थे भोपाल

ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह का भोपाल से गहरा नाता है। वरूण के पिता रिटायर्ड कर्नल केपी सिंह सेना में थे और अपनी पत्नी के साथ भोपाल में ही रहते है।

भोपाल। तमिलनाडु के कुन्नूर में CDS बिपिन रावत समेत सेना के 14 अफसरों को ले जा रहे हेलिकॉप्टर के क्रैश होने के बाद पूरा देश सदमे में है। हेलिकॉप्टर में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, पत्नी मधुलिका रावत सहित 13 लोगों की मौत हो गई है। हादसे में एक मात्र जिंदा बचे ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह का सेना के अस्पताल में इलाज जारी है।

इसे भी पढ़ें:MP के दामाद थे CDS बिपिन रावत, 1986 में हुई थी शादी 

ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह का भोपाल से गहरा नाता है। वरूण के पिता रिटायर्ड कर्नल केपी सिंह सेना में थे और अपनी पत्नी के साथ भोपाल में ही रहते है। हादसे के वक्त वरूण सिंह के पिता केपी सिंह अपने छोटे बेटे कमांडर तनुज सिंह जो नौसेना में है की बेटी का जन्मदिन मनाने मुंबई गए हुए थे। हेलिकॉप्टर क्रैश की सूचना मिलते ही मुंबई से ही पूरा परिवार कन्नूर पहुंच गया था।

भोपाल में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के पड़ोसी कर्नल ईशान सिंह ने बताया कि उनकी फोन पर वरूण के पिता केपी सिंह से बात हुई है। फोन पर पिता ने जानकारी देते हुए कहा कि वरूण सिंह का वेलिंगटन के सेना अस्पताल में इलाज चल रहा है और उनकी हालत अभी स्थिर है। पड़ोसियों के मुताबिक ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह हादसे में गंभीर रुप से झुलस गए है।

इसे भी पढ़ें:हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस रावत की मृत्यु के मामले में जांच शुरू : राजनाथ सिंह 

उन्होंने ये भी बताया कि दो सप्ताह पहले ही वरूण भोपाल आए थे और 10 दिन परिवार के साथ थे। जानकारी मिली है कि ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह को उनके साहस के लिए स्वतंत्रता दिवस पर शौर्य चक्र से सम्मानित किया था। ऐसा बताया जा रहा है कि वरुण सिंह को यह अवॉर्ड फ्लाइंग कंट्रोल सिस्टम खराब होने के बाद भी 10 हजार फीट की ऊंचाई पर तेजस विमान की सफल लैंडिग कराने पर दिया गया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।