हेमंत सोरेन का सवाल, जब गरीबों पर आफत आयी तो कहां थे प्रधानमंत्री

Hemant Soren
रांडी ने मुख्यमंत्री के पिता शिबू सोरेन को सपरिवार दुमका से बाहर कर देने का आह्वान जनता से हाल ही में किया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने दुमका के कितने नौजवानों को हवाई जहाज से वापस लाने का काम किया, इसके आपलोग लोग गवाह हैं।

दुमका। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि जब कोरोना संकट में राज्य के गरीबों पर संकट आया तो राज्य सरकार ने उनकी हर तरह से मदद की लेकिन जब गरीबों पर आफत आयी तो देश के प्रधानमंत्री कहां चले गये थे? सोरेन ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘'हमारे देश के आदरणीय प्रधानमंत्री जी के भाषणों को याद कीजिये। वो कहते थे कि जो लोग हवाई चप्पल पहनकर चलते हैं वो अब हवाई जहाज में चलेंगे। लेकिन कोरोना संकट के दौरान जब गरीबों पर आफत आई तो कहां चले गये थे प्रधानमंत्री जी?’’

भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी के हाल के बयान पर भारी नाराजगी जताते हुए मुख्यमंत्री ने पूछा, ‘‘कहां चले गये हमारे भाजपा के सहयोगी? उनको ये बातें लोगों को बतानी चाहिये।’’ मरांडी ने मुख्यमंत्री के पिता शिबू सोरेन को सपरिवार दुमका से बाहर कर देने का आह्वान जनता से हाल ही में किया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने दुमका के कितने नौजवानों को हवाई जहाज से वापस लाने का काम किया, इसके आपलोग लोग गवाह हैं।

इसे भी पढ़ें: झारखंड के 170 साल पुराने इस मां दुर्गा के मंदिर में जोड़े करते बेटी होने की कामना

मुख्यमंत्री यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा, ‘‘लोकतंत्र के इस महापर्व में लोगों की हिमाकत तो देखिये! आदरणीय गुरुजी (झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन) के बारे में अपशब्द कहना प्रारंभ कर दिया है। राज्य अलग करने का श्रेय लेने के लिए गुमराह करने वाली बयानबाजी चल रही है। मैं इन भाजपा वाले से पूछना चाहता हूं कि वे बतायें कि उनके कितने व्यक्ति इस अलग राज्य के आन्दोलन में जेल गये और लाठी खाये? एक भी व्यक्ति का नाम बता दें।’ सोरेन ने आरोप लगाया कि पूरे राज्य से यहां की बहू-बेटियों को बंधुआ मजदूर बनाकर दूसरे राज्यों में काम कराया जा रहा है। मानव तस्करी की शिकार हुई बच्चियों सहित सभी को यहां लाकर राज्य सरकार रोजगार दे रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़