कारगा में आईटीआई, गुमरांग व लोट में स्वास्थ्य उप केन्द्र तथा रारिक में प्राथमिक पाठशाला खोलने की घोषणा

Jai Ram Thakur
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार जनजातीय क्षेत्रों का समग्र विकास सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों के विकास के लिए अनेक योजनाएं आरम्भ की गई हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू से विशेषज्ञ चिकित्सकों सप्ताह में दो दिन के लिए क्षेत्रीय अस्पताल केलांग में तैनात किया जाएगा।

केलांग । मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज केलांग में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कारगा में नई आईटीआई खोलने, गुमरांग व लोट में स्वास्थ्य उप केन्द्र तथा रारिक में प्राथमिक पाठशाला खोलने की घोषणा की। उन्होंने शिशुर गोम्पा के लिए 30 लाख रुपये के अतिरिक्त बजट की भी घोषणा की। उन्होंने केलांग में क्षतिग्रस्त ओवरहैड स्वागत द्वार के पुनर्निर्माण के लिए 30 लाख रुपये की घोषणा की।  

 

  

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार जनजातीय क्षेत्रों का समग्र विकास सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों के विकास के लिए अनेक योजनाएं आरम्भ की गई हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू से विशेषज्ञ चिकित्सकों सप्ताह में दो दिन के लिए क्षेत्रीय अस्पताल केलांग में तैनात किया जाएगा।

 

 

इसे भी पढ़ें: किसानों को खुशहाल, आत्मनिर्भर और आय को दोगुना करने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध- विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार

 

इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने जिला लाहौल-स्पीति के केलांग में 41 करोड़ रुपये की लागत की 11 विकासात्मक परियोजनाओं के लोकार्पण तथा शिलान्यास किए, जिनमें 1.34 करोड़ की एक विकासात्मक परियोजना का लोकार्पण तथा लगभग 39.48 करोड़ रुपये की 10 परियोजनाओं के शिलान्यास शामिल हैं।

जय राम ठाकुर ने 1.34 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित योचे-बोलतोजिंग सड़क का लोकार्पण किया। उनहोंने 12.24 करोड़ रुपये की लागत से केलांग में शाॅपिंग काॅम्पलेक्स एवं पार्किंग, 13.69 करोड़ रुपये की लागत से पेयजल योजना केलांग के संवर्धन कार्य, 1.10 करोड़ रुपये की लागत से केलांग के लिए फायर हाइडेंªट, 1.33 करोड़ रुपये की लागत से बहाव सिंचाई योजना कारदंग, 85 लाख रुपये की लागत से बहाव सिंचाई योजना टोजिंग, 1.26 करोड़ रुपये की लागत से जिस्पा में बाढ़ नियंत्रण कार्य, 6.59 करोड़ रुपये की लागत से गौशाल में बाढ़ नियंत्रण कार्य, 45 लाख रुपये की लागत से बहाव सिंचाई योजना कवारिंग, 1.19 करोड़ रुपये की लागत से बहाव सिंचाई योजना बरगुल और 78 लाख रुपये की लागत से बहाव सिंचाई योजना रोगलिंग का शिलान्यास किया।  

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर ने वर्षा की प्रत्येक बूंद के संग्रहण की आवश्यकता पर बल दिया

तकनीकी शिक्षा, जनजातीय विकास और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डाॅ. राम लाल मारकण्डा ने अपने गृह क्षेत्र में मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए जनजातीय क्षेत्रों की विकासात्मक मांगों पर सदैव विचार करने के लिए आभार व्यक्त कया। उन्होंने कहा कि अटल टनल ने घाटी में किसानों , युवाओं तथा आमजन के लिए प्रगति के नए द्वार खोले हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को क्षेत्र की विभिन्न विकासात्मक मांगों से भी अवगत करवाया।

इससे पूर्व, घाटी में मुख्यमंत्री के आगमन पर महिला मण्डलों तथा आम लोगों ने उनका पारम्परिक तरीके से स्वागत किया। जनजातीय सलाकार समिति सदस्य नवांग उपासक तथा पुष्पा, उपायुक्त नीरज कुमार, पुलिस अधीक्षक मानव वर्मा, भाजपा जिला महासचिव संजीव कुमार, भाजपा मण्डी के अध्यक्ष संजय यारपा, महिला मोर्चा जिला अध्यक्षा शकुन्तला देवी, युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष तेंजिन करपा और अन्य गणमान्य लोग इस अवसर पर उपस्थित थे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़