Jahangirpuri Voilence: बिखर रहे भाईचारे को जोड़ने की कवायद, रविवार को तिरंगा यात्रा निकालेंगे हिंदू और मुसलमान

Jahangirpuri Voilence: बिखर रहे भाईचारे को जोड़ने की कवायद, रविवार को तिरंगा यात्रा निकालेंगे हिंदू और मुसलमान
ANI

पीस कमेटी की बैठक में फैसला हुआ कि 24 अप्रैल के दिन यानी रविवार को तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। इस यात्रा में हिंदू और मुसलमान दोनों ही समुदाय के लोग शामिल होंगे। यात्रा का मकसद लोगों को भाईचारे का संदेश देना है। रविवार सुबह 10 बजे तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी।

तारीख भी तय हो गई और वक्त भी मुकर्रर हो गया। पीस कमेटी ने फैसला कर लिया है कि जहांगीरपुरी पर लगे कलंक को मिटाना है। हनुमान जयंती के दिन दंगों का शिकार हुए जहांगीरपुरी की तस्वीर अब बदलने लगी है। एक तरफ जहां सियासी दौरे हो रहे थे तो दूसरी तरफ बिखर रहे भाईचारे को जोड़ने की कवायद चल रही थी। इलाके में दोबारा अमन-चैन बहाल करने की कोशिश करने दोनों समुदाय के लोग अब आगे आ रहे हैं। पीस कमेटी की बैठक में फैसला हुआ कि 24 अप्रैल के दिन यानी रविवार को तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में डराने लगाने कोरोना संक्रमण, 1042 नए मामले दर्ज, संक्रमण दर 4.64 प्रतिशत पर पहुंचा

इस यात्रा में हिंदू और मुसलमान दोनों ही समुदाय के लोग शामिल होंगे। यात्रा का मकसद लोगों को भाईचारे का संदेश देना है। रविवार सुबह 10 बजे तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। इस दौरान हिन्दू और मुसलमान दोनों ही पक्षों के लोग मौजूद रहेंगे और इलाके में भाई चारे का संदेश देंगे। आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष इंद्रमणि तिवारी ने कहा कि अगर प्रशासन की इजाजत हो तो हम रविवार के दिन एक तिरंगा यात्रा निकालना चाहते हैं। जिसमें हिन्दू और मुसलमान सभी भाई मिलकर एक तिरंगा यात्रा निकालते हैं। एक प्यार का संदेश देते हैं। जो लोगों के अंदर डर बैठा है उसे निकालते हैं। फिर हमारी जिंदगी जैसी थी उस पटरी पर चलने लगे। 

इसे भी पढ़ें: जहांगीरपुरी में हिंसा के बाद साथ आए हिन्दू-मुस्लिम समुदाय के लोग, गले मिलकर दूर किए गिले-शिकवे

16 अप्रैल की घटना के बाद इलाके में नेताओं की हलचल तेज है। शुक्रवार को भी कई राजनीतिक दलों के नेता जहांगीरपुरी पहुंचे। लेकिन रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन ने साफ कह दिया कि उन्हें किसी भी नेता कि जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कोई भी नेता आता है उन्हें एक गुलाब का फूल दीजिए और कहिए जाइए हमारा घर है हम देख लेंगे। हमें आपकी जरूरत नहीं है।  इन सब के बीच दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने दंगे के मास्टरमाइंड अंसार से खुद पूछताछ की। वो खुद क्राइम ब्रांच के ऑफिस पहुंचे और अंसार से दंगों के बारे में जानकारी भी ली।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...