एमपी में रह रहे कश्मीरी पंडितों को लेकर गृह मंत्री का बड़ा बयान, कहीं ये बात

एमपी में रह रहे कश्मीरी पंडितों को लेकर गृह मंत्री का बड़ा बयान, कहीं ये बात

गृह मंत्री ने कहा कि द कश्मीर फाइल्स फिल्म नहीं देखने की बात कहने वाले राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा से निवेदन है कि वह मध्य प्रदेश में रह रहे उन कश्मीरी पंडितों की सूची उपलब्ध करा दें जो वापस जाना चाहते हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कश्मीरी पंडितों को लेकर एक बड़ा बयान सामने आया है। द कश्मीर फाइल्स में कश्मीरियों के दिखाए गए दर्द के बाद गृह मंत्री ने ऐलान किया है कि एमपी में रह रहे कश्मीरी पंडित भाई-बहन अगर वापस कश्मीर जाना चाहते है। तो वह गृह विभाग को सूचित करें। सरकार‌ उनकी वापसी सुनिश्चित कराने के साथ-साथ भेजने की व्यवस्था भी करेगी।

गृह मंत्री ने कहा कि द कश्मीर फाइल्स फिल्म नहीं देखने की बात कहने वाले राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा से निवेदन है कि वह मध्य प्रदेश में रह रहे उन कश्मीरी पंडितों की सूची उपलब्ध करा दें जो वापस जाना चाहते हैं। इस ट्वीट को उन्होंने विवेक तन्खा को भी टैग किया है और #TheKashmirFiles का इस्तेमाल किया है। 

इसे भी पढ़ें:पेपर के स्क्रीनशॉट वायरल होने का मामला, सीएम के OSD ने कांग्रेस नेताओं पर करवाई एफआईआर दर्ज

वहीं गृह मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह कश्मीरी विस्थापितों के साथ है अगर वह यहां से वापस कश्मीर जाना चाहेंगे तो सरकार उनकी पूरी मदद करेगी । उनको कश्मीर पहुचाने तक कि व्यवस्था की जाएगी। इस मामले में राजनीति नही होनी चाहिए। यह मानव सेवा और संवेदनाओं का मामला है इसके लिए सभी को सकारात्मक दृटिकोण रखना चाहिए।

आपको बता दे कि हाल ही में विवेक तन्खा ने राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर विनियोग विधेयक 2022 और जम्मू-कश्मीर विनियोग विधेयक पर अपनी बात रखी एवं जम्मू-कश्मीर के बेहतरीन विकास और उत्थान के लिए सरकार को सुझाव भी दिए और कहा था कि कश्मीर की हालत दिन प्रति दिन गिरती जा रही है। सरकारी अफसर कब तक कश्मीर को चलाएँगे। लोक तांत्रिक सरकार की जरूरत है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।