क्राइम ब्रांच के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह, सात घंटे तक हुई पूछताछ, बोले- मैं जांच में कर रहा सहयोग

क्राइम ब्रांच के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह, सात घंटे तक हुई पूछताछ, बोले- मैं जांच में कर रहा सहयोग

परमबीर सिंह ने बताया कि मैं सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार आज जांच में शामिल हुआ हूं। मैं जांच में सहयोग कर रहा हूं और मुझे अदालत पर पूरा भरोसा है। दरअसल, परमबीर सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान की है और जांच एजेंसियों के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया था।

मुबंई। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह गुरुवार को क्राइम ब्रांच के समक्ष पेश हुए। इस दौरान क्राइम ब्रांच ने उनसे 7 घंटे तक पूछताछ की। आपको बता दें कि परमबीर सिंह के खिलाफ जबरन वसूली का मामला चल रहा है। जिसकी जांच क्राइम ब्रांच कर रही है। परमबीर सिंह के वकील का कहना है कि उन्होंने क्राइम ब्रांच के सामने बयान दर्ज कराया है। ​सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक, वह जांच में सहयोग करना जारी रखेंगे। 

इसे भी पढ़ें: सामने आकर परमबीर सिंह ने उठाया अपने ठिकाने का पर्दा, बोले- जल्द जांच में होऊंगा शामिल 

जांच में मदद करने के लिए तैयार परमबीर सिंह

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, परमबीर सिंह ने बताया कि मैं सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार आज जांच में शामिल हुआ हूं। मैं जांच में सहयोग कर रहा हूं और मुझे अदालत पर पूरा भरोसा है। दरअसल, परमबीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान करने की मांग की थी। जिस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने उन्हें गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान की।

इसे भी पढ़ें: देश में ही मौजूद हैं परमबीर सिंह, 48 घंटे के भीतर CBI के सामने होंगे पेश, सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी से दी राहत 

इस दौरान कोर्ट को बताया गया था कि परमबीर सिंह देश में ही मौजूद हैं। इसके बाद खबर सामने आई कि परमबीर सिंह चंडीगढ़ में मौजूद हैं और वो जांच में सहयोग करने के लिए तैयार हैं। जिसके बाद गुरुवार को परमबीर सिंह क्राइम ब्रांच मुंबई के समक्ष पेश हुए और अपना बयान दर्ज कराया। आपको बता दें कि परमबीर सिंह मामले की अगली सुनवाई 6 दिसंबर को होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।