मैंने अपनी जिंदगी में केजरीवाल से बड़ा झूठा नहीं देखा: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   09:12
मैंने अपनी जिंदगी में केजरीवाल से बड़ा झूठा नहीं देखा: अमित शाह

दिल्ली विधानसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार सुनील यादव के पक्ष में जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने केजरीवाल से पूछा क्या वह जेएनयू के छात्र शरजील इमाम को खिलाफ अभियोजन चलाने की इजाज़त देंगे? भाजपा नेता ने कहा कि केजरीवाल ने झूठ बोला था कि वह सरकारी घर या कार नहीं लेंगे।

नयी दिल्ली। भाजपा नेता अमित शाह ने बुधवार को कहा कि उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से  बड़ा झूठा   अपनी ज़िंदगी में नहीं देखा। नई दिल्ली विधानसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार सुनील यादव के पक्ष में जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने केजरीवाल से पूछा क्या वह जेएनयू के छात्र शरजील इमाम को खिलाफ अभियोजन चलाने की इजाज़त देंगे? भाजपा नेता ने कहा कि केजरीवाल ने झूठ बोला था कि वह सरकारी घर या कार नहीं लेंगे। लेकिन “अब उनके पास बंगला और कार दोनों हैं। मैंने अपने 56 साल के जीवन में केजरीवाल से बड़ा झूठा नहीं देखा।”

इसे भी पढ़ें: संजय सिंह की EC से मांग, कहा- अमित शाह और भाजपा के खिलाफ करें कार्रवाई

केंद्रीय गृह मंत्री ने शिक्षा के क्षेत्र में केजरीवाल की उपलब्धियों पर सवाल करते हुए कहा कि भाजपा के सांसदों ने आप सरकार के झूठे दावों का पर्दाफाश किया तोइस पर केजरीवाल ने जवाब दिया, “ हम (भाजपा) दिल्ली का अपमान कर रहे हैं।” शाह ने पूछा, “ केजरीवालजी, क्या आप इंदिरा गांधी की तरह महसूस कर रहे हैं।” उन्होंने कहा, “ इंदिरा कहा करती थीं कि इंदिरा इज़ इंडिया एंड इंडिया इज़ इंदिरा। केजरीवाल भी समझते हैं कि केजरीवाल इज़ दिल्ली एंड दिल्ली इज़ केजरीवाल।”

इसे भी पढ़ें: दिल्ली का सुपर संडे, राजनीति के दो धुरंधर 2 फरवरी को करेंगे साझा रैली

शाह ने फरवरी 2016 में जेएनयू में “टुकड़े- टुकड़े नारे लगाने वालों के खिलाफ अभियोजन की अनुमति नहीं देने के लिए” केजरीवाल पर हमला बोला। शाह ने कहा, “ (ईवीएम का) का बटन इतनी ज़ोर से दबाओ कि उसका करंट शाहीन बाग में महसूस हो।”





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।