भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा पर बरसे कमलनाथ, बोले- जब निक्कर पहननी नहीं सीखी थी, तब मैं सांसद था

भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा पर बरसे कमलनाथ, बोले- जब निक्कर पहननी नहीं सीखी थी, तब मैं सांसद था

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि वो नारियल को अपनी जेब में लेकर घूमते हैं, जहां भी मौका मिला वहीं पर फोड़ देते हैं। मैं तो शिवराज सिंह जी को कहता हूं कि बंबई जाइए एक्टिंग करिए।

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ इन दिनों सुर्खियों में छाए हुए हैं। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए अजीबोगरीब बयान दे दिया। कांग्रेस नेता ने खंडवा में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि उनका अध्यक्ष कोई शर्मा है... क्या नाम है। वीडी शर्मा। जब इसने निक्कर पहननी नहीं सीखी थी, तब मैं सांसद था। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में बिजली संकट नहीं: ऊर्जा मंत्री तोमर का दावा 

शिवराज को जाना चाहिए बंबई 

उन्होंने आगे शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वो नारियल को अपनी जेब में लेकर घूमते हैं, जहां भी मौका मिला वहीं पर फोड़ देते हैं और झूठ बोलने में तो झूठ भी शर्मा जाता है उनके सामने। उन्होंने कहा कि मैं तो शिवराज सिंह जी को कहता हूं कि बंबई जाइए एक्टिंग करिए। शाहरुख खान और सलमान खान को भी आप नीचा दिखा देंगे। मध्य प्रदेश का नाम रोशन करेंगे। जाइए बंबई आप यहां कहां लोगों को मूर्ख बनाने के लिए आते हैं। 

मुंह बहुत चलाते हैं शिवराज 

कमलनाथ ने कहा कि यह किसान, नौजवान और छोटे व्यापारियों के ऊपर देख नहीं सकते हैं। इतना दुख, दर्द सुन नहीं सकते। आंख नहीं चलती, कान नहीं चलते और मुंह बहुत चलता है। मुंह चलाने और प्रदेश चलाने में बहुत अंतर है।

मध्य प्रदेश उपचुनाव के मद्देनजर कमलनाथ ने खंडवा में दादाजी धूनी वाले आश्रम पहुंचकर प्रदेश की जनता की खुशहाली की कामना की। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के ग्वालियर में भंडारे का भोजन खाकर करीब 50 लोग बीमार 

कमलनाथ ने किसान आत्महत्या का उठाया मुद्दा 

इससे पहले कमलनाथ ने किसान आत्महत्या का मामला उठाते हुए ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों की आत्महत्याओं का दौर जारी। अब छिंदवाड़ा जिले के हिवरा गाँव में किसान दुर्गादास देशमुख ने फसल खराब होने से आत्महत्या कर ली। किसान पहले से ही बिजली संकट, खाद की कमी से परेशान है और सरकार चुनावों में लगी हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।