पहली बार डिजिटल माध्यम से आयोजित हुआ IIT मद्रास का दीक्षांत समारोह, 2,300 से अधिक डिग्रियां दी गईं

IIT Madras
आईआईटी मद्रास के बोर्ड ऑफ गवर्नर के चेयरमैन और महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता की।

चेन्नई। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान- मद्रास के इतिहास में पहली बार डिजिटल माध्यम से रविवार को दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया और 2,300 से अधिक डिग्रियां दी गईं। ‘मिक्स्ड रियलिटी’ तकनीक का प्रयोग, 57वें दीक्षांत समारोह का मुख्य आकर्षण था। नोबेल पुरस्कार विजेता और कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में सैद्धांतिक भौतिकी के प्रोफेसर डेविड जे ग्रॉस इस आयोजन के मुख्य अतिथि थे। 

इसे भी पढ़ें: IIT में प्रवेश पाने वाले दिल्ली के सरकारी स्कूल के विद्यार्थी ‘रोल मॉडल’ बने: केजरीवाल 

उन्होंने इस अवसर पर कहा कि डिग्री प्राप्त कर रहे छात्रों के लिए अब उस ज्ञान का प्रयोग करने की शुरुआत है जो उन्होंने अध्ययन के दौरान ग्रहण किया है। आईआईटी मद्रास के बोर्ड ऑफ गवर्नर के चेयरमैन और महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़