IMA पोंजी घोटाला मामले में CBI ने कर्नाटक के पूर्व मंत्री रोशन बेग के आवास पर मारा छापा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   15:26
IMA पोंजी घोटाला मामले में CBI ने कर्नाटक के पूर्व मंत्री रोशन बेग के आवास पर मारा छापा

सूत्रों ने बताया कि सीबीआई अधिकारियों ने कांग्रेस से निष्कासित नेता बेग के पुलकेशी नगर स्थित आवास पर छापेमारी की। एजेंसी ने 4000 करोड़ के आईएमए पोंजी घोटाले में दिनभर पूछताछ के बाद रविवार को बेग को गिऱफ्तार किया था।

बेंगलुरू। केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के अधिकारियों ने करोड़ों रुपये के आई-मॉनेटरी एडवायजरी (आईएमए) पोंजी घोटाले मामले में सोमवार को कर्नाटक के पूर्व मंत्री आर. रोशन बेग के घर पर छापा मारा। सीबीआई ने बेग की गिरफ्तारी के एक दिन बाद यह कार्रवाई की। एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि सीबीआई के यहां स्थित कार्यालय के अधिकारियों ने कांग्रेस से निष्कासित नेता बेग के पुलकेशी नगर स्थित आवास पर छापेमारी की। एजेंसी ने 4000 करोड़ के आईएमए पोंजी घोटाले में दिनभर पूछताछ के बाद रविवार को बेग को गिऱफ्तार किया था। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस की अनुशासनात्मक समिति विधायक मूर्ति की अर्जी पर करेगी गौर: शिवकुमार 

कर्नाटक स्थित आईएमए और इसके समूह की कंपनियों द्वारा चलाई जा रही चार हजार करोड़ों रुपये की पोंजी स्कीम में कथित रूप से ऊंचे रिटर्न देने का वादा करके लाखों लोगों को ठगा गया था। पिछले साल कांग्रेस के खिलाफ बगावत करने वाले बेग को विधायक के तौर पर अयोग्य ठहराया गया था। बेग को रविवार सुबह सीबीआई कार्यालय में पेशी के लिए तलब किया गया था और ‘‘ ठोस सबूतों के आधार पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया’’ था। इसके बादशिवाजी नगर से पूर्व विधायक बेग को अदालत के समक्ष पेश किया गया, जिसने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में केंद्रीय जेल भेज दिया गया था। यह घोटाला पिछले साल जून में तब सामने आया जब पोंजी स्कीम संचालक मोहम्मद मंसूर खान बेग और कुछ सरकारी अधिकारियों पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए देश से फरार हो गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...