जम्मू-कश्मीर : डल झील पर 7500 वर्ग फुट का तिरंगा फहराया गया

Flag img
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
राष्ट्रीय एकता और अखंडता के संदेश का प्रसार करते हुए, भारत पर्यटन, उत्तरी क्षेत्र के सहयोग से हिमालय पर्वतारोहण संस्थान दार्जिलिंग (एचएमआई) के एक दल ने डल झील के किनारे राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

श्रीनगर, 16 अगस्त। देश के कोने-कोने से भ्रमण कर सोमवार को जम्मू-कश्मीर की डल झील पर 7,500 वर्ग फुट का राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने डल झील का दौरा किया और शेर-ए-कश्मीर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र (एसकेआईसीसी) में डल झील के किनारे प्रदर्शित 7500 वर्ग फुट के तिरंगे को सलामी दी। उन्होंने कहा, “अपने प्रिय तिरंगे को सलाम करना मेरे लिए खुशी का क्षण था।” उपराज्यपाल ने कहा, “यह हमारे लिए बहुत गर्व की बात है कि जम्मू-कश्मीर हर घर तिरंगा उत्सव के तहत इतने विशाल आयामों के राष्ट्रीय ध्वज की मेज़बानी कर रहा है।”

राष्ट्रीय एकता और अखंडता के संदेश का प्रसार करते हुए, भारत पर्यटन, उत्तरी क्षेत्र के सहयोग से हिमालय पर्वतारोहण संस्थान दार्जिलिंग (एचएमआई) के एक दल ने डल झील के किनारे राष्ट्रीय ध्वज फहराया। समूह का नेतृत्व ग्रुप कैप्टन जय किशन ने किया था। भारत छोड़ो आंदोलन के 80 साल पूरे होने के मौके पर आठ अगस्त को श्रीनगर पहुंचने से पहले तिरंगे को दार्जिलिंग में प्रदर्शित किया गया था। टीम एचएमआई ने पहले अप्रैल 2021 में हिमालय के सिक्किम में राष्ट्रीय ध्वज फहराया था।

पिछले साल ध्वज को स्वतंत्रता दिवस पर कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में, 31 अक्टूबर, 2021 को गुजरात के स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में इसी ध्वज को प्रदर्शित किया था। इसके बाद, अंटार्कटिका में तिरंगे को प्रदर्शित किया गया। राष्ट्रीय ध्वज ने अंटार्कटिका में पहली बार किसी भी देश के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का विश्व रिकॉर्ड बनाया। अब भारत सरकार के हर घर तिरंगा अभियान की तर्ज पर श्रीनगर में झंडा फहराया जा रहा है। यही राष्ट्रीय ध्वज आने वाले दिनों में देश के अन्य हिस्सों की यात्रा करेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़