रांची हिंसा में एसएसपी के स्थानांतरण पर उच्च न्यायालय ने हलफनामा दाखिल करने को कहा

Ranchi vio
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
झारखंड उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राज्य के गृह सचिव और पुलिस महानिदेशक को यह स्पष्ट करने के लिए हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया कि पिछले महीने हुई हिंसा की जांच कर रहे रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) का तबादला क्यों किया गया।

रांची, 30 जुलाई । झारखंड उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राज्य के गृह सचिव और पुलिस महानिदेशक को यह स्पष्ट करने के लिए हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया कि पिछले महीने हुई हिंसा की जांच कर रहे रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) का तबादला क्यों किया गया। रांची में 10 जून को पैगंबर मोहम्मद पर विवादास्पद टिप्पणी को लेकर हिंसक विरोध प्रदर्शन के बाद दो लोगों की मौत हो गई और 22 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना की जांच एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा कर रहे थे। बाद में, आपराधिक जांच विभाग (सीआईडी) ने मामले को अपने हाथ में ले लिया और हाल में एसएसपी तबादला कर दिया गया।

मुख्य न्यायाधीश डॉ रवि रंजन और न्यायमूर्ति सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें दावा किया गया था कि राज्य सरकार उचित जांच करने की इच्छुक नहीं है। याचिकाकर्ता के वकील ने पीठ को बताया कि घटना की जांच के लिए एसएसपी के नेतृत्व में एक विशेष जांच दल का गठन किया गया था जिसके बाद मामला सीआईडी को सौंप दिया गया था। पीठ ने मौखिक टिप्पणी में कहा कि राज्य ने हाल में एसएसपी को बदल दिया और इस मामले पर कोई बड़ा काम नहीं किया है। अदालत ने गृह सचिव राजीव अरुण एक्का और पुलिस महानिदेशक नीरज सिन्हा को अपना-अपना हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़