• हरिद्वार में पिछले 20 सालों में 24 साधुओं की हुई हत्या या हो गए लापता, की गुत्थी आज तक बनी हुई रहस्य

अभिनय आकाश  Sep 23, 2021 19:53

हरिद्वार के संत समुदाय के अनुसार पिछले कुछ वर्षों में कम से कम 24 संतों की कथित तौर पर हत्या कर दी गई है या फिर वो गायब हो गए हैं। एक साधु जिसने नरेंद्र गिरी को नकली तपस्वियों की सूची दी थी वो अचानक से 16 सितंबर, 2017 को लापता हो गए।

महंत नरेंद्र गिरी की मौत की गुत्थी सुलझाने में अब देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई प्रयागराज पहुंच चुकी है। इसके साथ ही महंत नरेंद्र गिरी को जल समाधि भी दे दी गई। नरेंद्र गिरी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए तीसरे आरोपी संदीप तिवारी को बृहस्पतिवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। महंत नरेंद्र  गिरि ने अपनी आत्महत्या के पहले लिखे गए कथित सुसाइड नोट में आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को जिम्मेदार ठहराया था। वहीं महंत नरेंद्र गिरी की हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए सीबीआई की पांच सदस्यीय टीम प्रयागराज पहुंच गई है। सीबीआई की टीम एसआईटी के साथ बैठक कर रही है। नरेंद्र गिरी की मौत से हरिद्वार के कई साधु-संतों के मामलों एक बार फिर से चर्चा में आ गए हैं जिनकी जिनकी मौत की गुत्थी आज तक रहस्य बनी हुई है।

इसे भी पढ़ें: पंजाब सरकार द्वारा नौजवानों द्वारा स्व-रोजग़ार के लिए लिए गए कजऱ् में से 50-50 हज़ार की राशि माफ की

हरिद्वार के संत समुदाय के अनुसार पिछले कुछ वर्षों में कम से कम 24 संतों की कथित तौर पर हत्या कर दी गई है या फिर वो गायब हो गए हैं। एक साधु जिसने नरेंद्र गिरी को नकली तपस्वियों की सूची दी थी वो अचानक से 16 सितंबर, 2017 को लापता हो गए। उदासीन पंचायती बड़ा अखाड़ा के महंत मोहन दास हरिद्वार से मुंबई के लिए ट्रेन में सवार हुए थे। लेकिन वह अपने गंतव्य पर कभी नहीं पहुंचे। मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी को भी कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

नकली साधुओं की लिस्ट ने कई लोगों को किया नाराज

हरिद्वार के संत समुदाय का कहना है कि नकली साधुओं की सूची ने कई लोगों को नाराज कर दिया था। गिरि और उनके करीबी लोगों ने उसके बाद कई लोगों की नाराजगी झेली थी। इसके एक हफ्ते बाद महंत मोहन दास गायब हो गए। क्या कोई व्यक्ति चलती ट्रेन से गायब हो सकता है? अब सालों बाद लोगों ने गिरि से बदला लिया है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि हम में से कई लोगों को यह विश्वास करना मुश्किल लगता है कि गिरि ने आत्महत्या की है।  हम कहते रहे हैं कि उनकी मौत एक साजिश का नतीजा है।

जमीन सौदे का विरोध करने पर मारी गोली

मोहन दास को अब समुदाय द्वारा मृत मान लिया गया है। ऐसे ही रामदेव के गुरु शंकर देव जुलाई 2007 में हरिद्वार के कनखा से रहस्यमय तरीके से गायब हो गए थे। फिर ऐसी कई हत्याएं हुईं जिन्होंने संत समुदाय को झकझोर कर रख दिया। कथित हत्याओं में से कई संपत्ति विवाद को लेकर हुई। 14 अप्रैल 2012 को हरिद्वार के पास महानिरवानी अखाड़े के एक संत सुधीर गिरी की हत्या कर दी गई थी। जमीन के सौदे का विरोध करने पर उनकी कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 

2001-2002 में मारे गए कई साधु-संत

जून 2001 को स्वामी विष्णुगिरी और चार अन्य साधुओं की हरिद्वार में कथित रूप से हत्या कर दी गई। इसी महीने एक और साधु ब्रह्मनंद की भी हत्या हुई। अगस्त 2002 को साधु हरियानंद की उनके शिष्य के साथ कथित रूप से हत्या कर दी गई। दिसंबर 2000 को साध्वी प्रेमानंद को भी मौत के घाट उतार दिया गया।