LAC के पास भारत और अमेरिका दिखाएंगे अपनी ताकत, संयुक्त सैन्याभ्यास से चीन को जाएगा कड़ा संदेश

India and America
prabhasakshi
अभिनय आकाश । Aug 05, 2022 12:30PM
भारत अमेरिका के होने वाले इस संयुक्त सैन्य अभ्यास से चीन टेंशन में है। उत्तराखंड के औली में 14 से 31 अक्टूबर तक ये सैन्य अभ्यास चलेगा। उत्तराखंड सटी एलएसी भारतीय सेना के सेंट्रल सेक्टर का हिस्सा है।

सीमा पर हेकड़ी दिखाने वाले चीन को भारत और अमेरिका की सेनाएं मिलकर बड़ा जवाब देने की तैयारी में है। ताइवान विवाद को लेकर चीन और अमेरिका में ठन गई है। एलएसी पर चीन उकसावे वाली कार्रवाई लगातार करता रहता है। अब भारत और अमेरिका ने ड्रैगन को मुंहतोड़ जवाब देने की ठान ली है। भारत और अमेरिका की सेनाएं चीन के बॉर्डर के पास सैन्य अभ्यास करेंगी। भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच संयुक्त युद्धभ्यास का ये 15वां संस्करण है। दोनों सेनाओँ के बीच सालाना मिलिट्री एक्सरसाइज होती है। जिसे युद्धाभ्यास के नाम से जाना जाता है। एक साल ये एक्सरसाइज भारत में होती है और एक साल अमेरिका में होती है। 

इसे भी पढ़ें: श्रीलंका और मालदीव के बाद अब क्या पाकिस्तान को भी बचायेगा भारत?

भारत अमेरिका के होने वाले इस संयुक्त सैन्य अभ्यास से चीन टेंशन में है। उत्तराखंड के औली में 14 से 31 अक्टूबर तक ये सैन्य अभ्यास चलेगा। उत्तराखंड सटी एलएसी भारतीय सेना के सेंट्रल सेक्टर का हिस्सा है। यहां पर एलएसी का बाड़ोहती इलाका भारत और चीन के बीच लंबे समय से विवादित रहा है। दोनों सेनाओं के बीच इस युद्ध अभ्यास का मकसद भारत अमेरिका की समझ, सहयोग और आपसी तालमेल को बढ़ाना है। हालांकि इस मिलिट्री एक्सरसाइज का डिप्लोमैटिक संदेश भी चीन को जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: पेलोसी की यात्रा को अपनी धमकियों से ग्रैंड इवेंट बना फेर में फंसे जिनपिंग, माओ सरीखा बनने की चाह में कहीं लु हुं चेंग न बन जाएं

सीमा पर चीन रह रहकर अपनी उकसावे वाली रणनीति अपनाता रहता है। पूर्वी लद्दाख में पीएलए के लड़ाकू विमान एलएसी के काफी करीब से उड़ान भरते हुए भी नजर आते थे। हालांकि इस पर भारत की तरफ से आपत्ति भी जताई गई थी। चीनी सेना की हरकतों से उसकी नीति और नियत साफ प्रदर्शित होती है। वैसे यह युद्धाभ्यास ऐसे समय होने जा रहा है जब ताइवान के मसले पर यूएस-चीन में टकराव बढ़ गया है। सीमा पर चीन की गतिविधियां हाल के दिनों में बढ़ी हैं, एलएसी तक उसके फाइटर जेट्स ने उड़ान भरी।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़