भारत और अर्जेंटीना को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साथ आना चाहिए: कोविंद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 19, 2019   08:26
भारत और अर्जेंटीना को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साथ आना चाहिए: कोविंद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि अर्जेंटीना में महात्मा गांधी को जो आदर सम्मान दिया जाता है, वही सम्मान सान मार्टिन का भारत में है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को अर्जेंटीना के अपने समकक्ष मॉरिशियो मैक्री का राष्ट्रपति भवन में स्वागत करते हुए कहा कि आतंकवाद का नाश करने के लिए दोनों देशों को साथ आना चाहिए। राष्ट्रपति भवन में आज सुबह मैक्री का स्वागत एक पारंपरिक समारोह में किया गया। इसके बाद मैक्री के सम्मान में आयोजित भोज के दौरान अपने संबोधन में दोनों देशों की समृद्ध पारंपरिक मित्रता को रेखांकित किया। इस दौरान उन्होंने तबले से लेकर टैंगो तक का जिक्र किया।

इसे भी पढ़ें: भारत और अर्जेन्टीना ने परमाणु ऊर्जा और अन्य क्षेत्रों में 10 MoU को दिया अंतिम रूप

कोविंद ने इस दौरान गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर की 1924 में उनकी अर्जेंटीना यात्रा के दौरान लेखिका विक्टोरिया अकोम्पो से हुई मुलाकात का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अर्जेंटीना में महात्मा गांधी को जो आदर सम्मान दिया जाता है, वही सम्मान सान मार्टिन का भारत में है। राष्ट्रपति ने इस दौरान यह भी कहा कि भारत के लोग फुटबॉल खिलाड़ी डिएगो मारडोना और लियोनल मेसी के बड़े प्रशंसक हैं।

इसे भी पढ़ें: भारत की बड़ी कामयाबी, 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन की करेगा मेजबानी

अपने संबोधन के दौरान कोविंद ने कहा कि आतंकवाद आज मानवता के सामने सबसे बड़ा खतरा है। लंबे समय से मित्रता होने और विश्वासी सहयोगी होने के नाते हमें दृढ़तापूर्ण और निर्णायक तरीके से आतंकवाद के खात्मे के लिए साथ आना चाहिए ताकि हम हमारे वर्तमान और भविष्य को सुरक्षित कर सकें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।