राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, भारत सर्वाधिक कोविड टीकाकरण करने वाले अग्रणी देशों में शामिल

president ramnath kovind
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि, भारत सर्वाधिक कोविड टीकाकरण करने वाले अग्रणी देशों में शामिल हो गया है।संसद के बजट सत्र के पहले दिन केंद्रीय कक्ष में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में कहा, ‘‘हमने रिकॉर्ड समय में कोविड रोधी टीकों की 150 करोड़ खुराक लगाईं।’’

नयी दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को कोरोना वायरस महामारी के मुकाबले के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते कहा कि भारत ने रिकॉर्ड समय में कोविड रोधी टीकों की 150 करोड़ खुराक लगाईं और वह सर्वाधिक टीकाकरण करने वाले अग्रणी देशों में शामिल हो गया है। संसद के बजट सत्र के पहले दिन केंद्रीय कक्ष में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में कहा, ‘‘हमने रिकॉर्ड समय में कोविड रोधी टीकों की 150 करोड़ खुराक लगाईं।’’

इसे भी पढ़ें: सिद्धू ने मजीठिया को बताया परचा माफिया, बोले- अगर वादे पूरे नहीं किए तो छोड़ दूंगा राजनीति

उन्होंने यह भी कहा कि कोविड टीके की दूसरी खुराक 70 प्रतिशत से अधिक लाभार्थियों को लगा दी गयी है और भारत सर्वाधिक टीकाकरण करने वाले अग्रणी देशों में शामिल हो गया है। उन्होंने देश के सभी नागरिकों को नल के माध्यम से पेयजल उपलब्ध कराने की सरकार की योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि ‘हर घर जल’ योजना के तहत छह करोड़ से अधिक ग्रामीण घरों में नल से जल की आपूर्ति की जा रही है। राष्ट्रपति ने पिछले एक वर्ष में कृषि क्षेत्र में हुए विकास का श्रेय देश के छोटे किसानों को दिया जो देश के किसानों का 80 प्रतिशत हैं। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के बावजूद किसानों ने 2020-21 में 30 करोड़ टन खाद्यान्न का उत्पादन किया। उन्होंने कहा कि देश का कृषि निर्यात 2020-21 में 25 प्रतिशत बढ़कर तीन लाख करोड़ रूपये हो गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़