देश में मनाया गया इन्फैंट्री डे, शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

Infantry Day
इन्फैंट्री दिवस के अवसर पर राष्ट्र की सेवा में विभिन्न युद्धक्षेत्रों पर सर्वोच्च बलिदान देने वाले इन्फैंट्री के शहीदों के सम्मान में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर एक पुष्पांजलि सभा आयोजित की गई। इस अवसर पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवने के साथ रेजिमेंट के सभी कमांडर और कर्नल मौजूद रहे।

इन्फैंट्री के योगदान को मनाने के लिए 27 अक्टूबर 2020 को भारतीय सेना का इन्फैन्ट्री डे मनाया गया। इस दिन का इन्फेंट्री के लिए एक अनूठा महत्व है, क्योंकि 1947 में इसी दिन भारतीय सेना के इन्फेंट्रीमेन श्रीनगर हवाई अड्डे पर उतरने वाले पहले सैनिकों का दल बने थे, जिन्होंने श्रीनगर के बाहरी इलाके से आक्रमणकारियों को वापस कर दिया और जम्मू और कश्मीर को पाकिस्तान समर्थित कबायली आक्रमण से बचा लिया।

इन्फैंट्री दिवस के अवसर पर राष्ट्र की सेवा में विभिन्न युद्धक्षेत्रों पर सर्वोच्च बलिदान देने वाले इन्फैंट्री के शहीदों के सम्मान में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर एक पुष्पांजलि सभा आयोजित की गई। इस अवसर पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवने के साथ रेजिमेंट के सभी कमांडर और कर्नल मौजूद रहे। ऑपरेशन विजय और ऑपरेशन मेघदूत के तीन योद्धा ब्रिगेडियर उमेश सिंह बावा, वीर चक्र (सेवानिवृत्त), सूबेदार (मानद कप्तान) संसार चंद, महा वीर चक्र (सेवानिवृत्त) और नाइक जय राम सिंह, वीर चक्र (सेवानिवृत्त) ने भी माल्यार्पण किया। 

इसे भी पढ़ें: ‘इंफेंट्री दिवस’ पर मोदी ने सैनिकों को दी बधाई , कहा- उनके योगदान पर देश को गर्व है

इन्फैन्ट्रीमेन के लिए अपने संदेश में, इन्फैंट्री के महानिदेशक ने उन्हें बहादुरी, बलिदान, कर्तव्य और व्यावसायिकता के प्रति निस्वार्थ समर्पण के मूल मूल्य को फिर से समर्पित करने और अपने देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के संकल्प में अदम्य बने रहने का आह्वान किया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़