योगी के मंदिर में लगने लगा श्रद्धालुओं का तांता, एक भक्त ने चढ़ाया सवा किलो चांदी का छत्र

yogi temple
ANI
अंकित सिंह । Sep 22, 2022 4:45PM
दिर में पूजा पाठ भी होने लगा है। आसपास के लोग लगातार मंदिर में पूजा करने आते हैं। राम जन्मभूमि मंदिर से इस मंदिर की दूरी 25 किलोमीटर है। मंदिर में योगी आदित्यनाथ की मूर्ति लगी है। सुबह-शाम पूजा होती है और आरती उतारी जाती है।

अयोध्या तो वैसे ही राम मंदिर को लेकर पावन भूमि के तौर पर जाना जाता है। हालांकि, अयोध्या से कुछ किलोमीटर की दूरी पर योगी आदित्यनाथ की एक मंदिर बन चुकी है। मंदिर में अब भक्तों का तांता भी लगने लगा है। मंदिर बनवाने वाले शख्स का नाम प्रभाकर मौर्य है। कुछ दिन पहले प्रभाकर मौर्य ने दावा किया था कि उन्होंने इस मंदिर का निर्माण 8 लाख में कराया है। मंदिर में पूजा पाठ भी होने लगा है। आसपास के लोग लगातार मंदिर में पूजा करने आते हैं। राम जन्मभूमि मंदिर से इस मंदिर की दूरी 25 किलोमीटर है। मंदिर में योगी आदित्यनाथ की मूर्ति लगी है। सुबह-शाम पूजा होती है और आरती उतारी जाती है। 

इसे भी पढ़ें: महिला सदस्‍यों को समर्पित सत्र देश के लिए उदाहरण बनेगा : योगी आदित्‍यनाथ

वहीं, मंदिर में अब चढ़ावे की भी शुरुआत हो चुकी है। नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी योगी आदित्यनाथ के मंदिर पहुंचे। योगी आदित्यनाथ की मूर्ति की पूजा करने के बाद उन्होंने सवा किलो चांदी का छत्र भी चढ़ाया है। अमित जानी भी योगी आदित्यनाथ के समर्थक बताए जाते हैं। उन्होंने दावा किया कि जैसे ही हमें इस मंदिर के बारे में जानकारी मिली, हम खुद को रोक नहीं सके और यहां चले आएं। अमित जानी ने कहा कि जिस तरीके से सन्यासी, साधू या किसी देवी-देवता पर चढ़ावा चढ़ता है, उसी तरीके से यहां भी चढ़ावा चढ़ाया गया है। जानी ने अखिलेश यादव पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आखिर वे इस मंदिर से क्यों चिढ़ रहे हैं?

इसे भी पढ़ें: वक्फ संबंधी कांग्रेस सरकार के काले कानून को खत्म करने का साहस योगी ही दिखा सकते थे

इतना ही नहीं, अमित जानी की ओर से दावा किया गया कि अखिलेश यादव के समर्थक भी उनके नाम से टीपू मदरसा इस्लामिया या औरंगजेब मदरसा बना सकते हैं। आपको बता दें कि योगी को इस मंदिर में राम के अवतार में दिखाया गया है। योगी आदित्यनाथ की जो मूर्ति है, उसके हाथ में धनुष और तीर भी थमाया गया है। इसके अलावा उनके पीछे चक्र भी दिखाई दे रहा है। प्रभाकर का दावा किया था कि योगी आदित्यनाथ सनातन धर्म का प्रचार कर रहे हैं इसलिए उनके लिए वह भगवान से कम नहीं हैं। उन्होंने बताया था कि हमने योगी आदित्यनाथ जी का मंदिर बनवाया है इसलिए क्योंकि वह भगवान राम का मंदिर बनवा रहे हैं।

अन्य न्यूज़