जम्मू कश्मीर के राज्यपाल बोले, जंग हार गए हैं आतंकी इसलिए कर रहे हैं हमले

jammu-kashmir-governor-big-statement-on-terrorism
मलिक ने पाकिस्तान में बैठे आतंकवादियों के आकाओं का स्पष्ट हवाला देते हुए कहा कि ये हमले यहां नए नहीं हैं, लेकिन हमने पिछले छह महीने से ज्यादा समय में इसे नियंत्रित किया है।

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार को कहा कि आतंकवादी सीमा पार बैठे अपने आकाओं को खुश करने के लिए सुरक्षा बलों पर हमले कर रहे हैं क्योंकि वे जंग हार चुके हैं। मलिक ने पाकिस्तान में बैठे आतंकवादियों के आकाओं का स्पष्ट हवाला देते हुए कहा, ‘‘ ये हमले यहां नए नहीं हैं, लेकिन हमने पिछले छह महीने से ज्यादा समय में इसे नियंत्रित किया है। मुझे 100 फीसदी यकीन है कि उनपर (आतंकवादियों पर) सीमा पार से कुछ करने का दबाव है।’’ 

उन्होंने यहां एक कार्यक्रम के इतर कहा, ‘उन्हें (आतंकवादियों के आकाओं को) लगता है कि वे हार गए हैं, क्योंकि उन्होंने 10 साल में आतंकवाद का जो ढांचा खड़ा किया था उसे तबाह कर दिया गया है।’ मलिक ने कहा, ‘‘ वे इसलिए हमले कर रहे हैं, लेकिन हम आपको आश्वस्त करते हैं कि हम इस खतरे को बहुत जल्द खत्म कर देंगे।’’ राज्यपाल ने बताया कि नए आतंकवादियों की भर्ती पूरी तरह से बंद हो गई है और जुमे (शुक्रवार दोपहर की) की नमाज़ के बाद होने वाला पथराव भी खत्म हो गया है। उन्होंने कहा, ‘‘ लोगों को एहसास हो गया है कि उन्हें इस सबसे से कुछ हासिल नहीं होगा।’’

इसे भी पढ़ें: अगर राहुल गांधी योग करते तो नहीं हारते लोकसभा चुनाव: रामदेव

मलिक ने कहा कि आतंकवादी हथियार डाल कर मुख्यधारा में लौट रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ युवा (आतंकवादी) (मुख्यधारा में) लौट रहे हैं। असल में, कुछ दिन पहले दो युवक आतंकवाद की राह छोड़कर वापस आ गए।’’ राज्यपाल ने कहा कि कश्मीर में ज़मीनी हालत अच्छे हैं और आतंकवादी हमलों से निपटने का रास्ता तलाशा जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘ यहां तक कि अमेरिकी, ब्रिटेन और फ्रांस भी ऐसी घटनाओं को रोक नहीं पाए हैं। हम इसका उपाय तलाशेंगे।’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़