पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया अपना एक साल का वेतन, जीवन रक्षक रेमडेसिविर के लिए किया आग्रह

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया अपना एक साल का वेतन, जीवन रक्षक रेमडेसिविर के लिए किया आग्रह

कोरोना संक्रमण से मरने वाले मरीजो के परिजनों का दुःख और शमशानों तथा कब्रिस्तानों से आ रहे भयवाह दृश्य मन को झंकझोर कर रख दे रहे है। यही कारण है कि वह मानव सेवा के लिए अपने एक साल का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देकर जीवन रक्षक इंजेक्शन रेमडेसिविर के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह कर रहे है

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने एक साल का मूल वेतन देने की बात कही है। जिसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर अपने 12 माह का वेतन देने की जानकारी दी है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि देश व प्रदेश सहित इंदौर शहर में कोविड महामारी के चलते अनेकों लोग कोरोना संक्रमण से पीड़ित है। महामारी की इस दशा में कोरोना संक्रमित मरीजों को अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन के साथ जीवन रक्षक इजेक्शन रेमडेसिविर भी प्राप्त नहीं हो पा रहा है। जीतू पटवारी ने अपने पत्र में मुख्यमंत्री से निवेदन किया कि मेरे 12 माह के वेतन से इंदौर के कोरोना पीड़ित निर्धन परिवारों को जिन्हें रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है, उपलब्ध करवाने का कष्ट करें। 

 

इसे भी पढ़ें: इंदौर में रेलवे ने की कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर से लैस 320 बेड की व्‍यवस्‍था

पूर्व मंत्री ने बताया कि वह खुद कोरोना पॉजिटिव आए थे और घर पर ही आइसोलेशन में रहकर अपना इलाज किया। इस दौरान भी उन्होंने हर दिन इंदौर शहर में कोरोना संक्रमित मरीजो के जरूरत के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति, अस्पतालों में बेड और जीवन रक्षक रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए प्रशासन से विभिन्न सामाजिक माध्यमों से निवेदन किया ताकि लोगों की जान बच सकें। उन्होंने बताया कि मैंने हर दिन जिला प्रशासन को रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता वाले कोरोना पीड़ित मरीजों की लिस्ट भी प्रेषित की है। जीतू पटवारी ने कहा कि वह खुद कोविड की मार झेल रहे है और लोगों से भी अपील करते है कि वह अपने घरों पर ही रहे, मास्क लगाए और सामाजिक दूरी का पालन करें। 

 

इसे भी पढ़ें: शिवराज सरकार ने 2000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदे, पीएसए तकनीक आधारित 8 ऑक्सीजन प्लांट्स किए स्वीकृत

जीतू पटवारी ने विश्वास जताया कि हम मिलकर कोरोना से जंग लड़ रहे है और इसे अवश्य जीतेंगे। उन्होंने इस दौरान यह भी कहा कि प्रदेश और खासकर इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में कोरोना संक्रमण अपना विकराल रूप लिए हुए है, जहाँ कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है वही आए दिन समाचार पत्रों के माध्यम से कोरोना से मरने वाले लोगों का आंकड़ा भी पता चल रहा है जबकि सरकारी आंकड़ा इससे कही अलग है। कोरोना संक्रमण से मरने वाले मरीजो के परिजनों का दुःख और शमशानों तथा कब्रिस्तानों से आ रहे भयवाह दृश्य मन को झंकझोर कर रख दे रहे है। यही कारण है कि वह मानव सेवा के लिए अपने एक साल का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देकर जीवन रक्षक इंजेक्शन रेमडेसिविर के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह कर रहे है ताकि उन परिवारों को यह इंजेक्शन मिल जाए जो इसे खरीद पाने में असमर्थ है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी इस ओर ध्यान देकर मेरे साथ पीड़ित मानवता की सेवा करने के लिए एक कदम ओर बढाएंगे।







नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।