फिर विवादों में आया JNU, कुलपति ने छात्रों पर लगाया जबरदस्ती घर में घुसने का आरोप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2019   09:32
फिर विवादों में आया JNU, कुलपति ने छात्रों पर लगाया जबरदस्ती घर में घुसने का आरोप

विश्वविद्यालय के सात छात्र इस अकादमिक सत्र से लागू हो रही प्रवेश परीक्षा के लिये ऑनलाइन प्रणाली के विरोध में पिछले एक सप्ताह से भूख हड़ताल पर बैठे हैं।

नयी दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति एम जगदीश कुमार ने सोमवार को विश्वविद्यालय के छात्रों पर जबरदस्ती घर में घुसने और अपनी पत्नी को घंटों तक बंदी बनाए रखने का आरोप लगाया। विश्वविद्यालय के सात छात्र इस अकादमिक सत्र से लागू हो रही प्रवेश परीक्षा के लिये ऑनलाइन प्रणाली के विरोध में पिछले एक सप्ताह से भूख हड़ताल पर बैठे हैं। सूत्रों के मुताबिक वाम संगठनों के छात्र कुलपति से मिलने की मांग करते हुए उनके घर पहुंचे। पिछले सप्ताह जब छात्र कुलपति से मिलने पहुंचे तो कुलपति ने उनकी चिंताओं को दूर करने बजाय उन्हें मिठाई पेश की।

इसे भी पढ़ें: मुफ्ती पर विवादित ट्वीट के बाद JNU की महिला प्रोफेसर पर हो सकती है कार्रवाई

एक प्रोफ्रेसर ने सोमवार को कहा कि छात्रों ने कथित रूप से कुलपति के घर में घुसकर उनकी पत्नी को घेर लिया। उस समय कुलपति घर पर नहीं थे। इस बीच पुलिस को कॉल की गई और विश्वविद्यालय के अन्य प्रोफेसरों की पत्नियों ने उन्हें बचाया। जगदीश कुमार की पत्नी को सदमा लगने के कारण अस्पताल ले जाया गया। कुलपति ने ट्वीट किया कि आज शाम करीब सौ छात्रों ने जबरन मेरे जेएनयू आवास में तोडफ़ोड़ की और मेरी पत्नी को कई घंटों तक घर के अंदर कैद रखा, जबकि मैं एक बैठक में था। क्या यह विरोध का तरीका है? घर में एक अकेली महिला को आतंकित करना?

इसे भी पढ़ें: JNU मामले में विस्तृत जांच के कारण आरोपपत्र दाखिल करने में समय लगा: सरकार

वहीं छात्रों ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि हम कुलपति से मिलने गए थे। सुरक्षाकर्मियों ने हमें हिरासत में ले लिया और जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष एन साई बालाजी समेत कई छात्रों को गंभीर चोट आई है। हालांकि, पुलिस ने कहा कि कुछ छात्रों द्वारा मार्च निकालने का आह्वान किया गया था, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें प्रवेश की कोशिश करते समय रोक दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।