कांग्रेस पर जेपी नड्डा का बड़ा हमला, कहा- मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है पार्टी नेतृत्व

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   17:07
कांग्रेस पर जेपी नड्डा का बड़ा हमला, कहा- मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है पार्टी नेतृत्व

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस कहती है कि इस कानून से अल्पसंख्यकों की नागरिकता छीनी जाएगी। उन्होंने कहा किसीएए नागरिकता देने का कानून है, नागरिकता लेने का नहीं। जिन लोगों को कोई जानकारी नहीं है, वो सीएए पर लोगों भड़का रहे हैं।

आगरा (उप्र)। संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) पर कांग्रेस के विरोध पर भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है और कांग्रेस के पिछले आठ महीने के वक्तव्य पाकिस्तान को मदद करने वाले नजर आएंगे।नड्डा ने यहां सीएए के समर्थन में आयोजित जनसभा में कहा,  कांग्रेस पार्टी हताश हो चुकी है। कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है। कांग्रेस पार्टी के पिछले 8 महीने के वक्तव्य पाकिस्तान को मदद करने वाले दिखाई देंगे। उन्होंने कहा,  आजकल बड़े-बड़े दलित नेता सीएए का विरोध कर रहे हैं। उनको मालूम नहीं है कि जो लोग भारत में आए हैं, उनमें 70 फीसदी दलित हैं। जिनको भारत में रहने का अधिकार दिया है, उनको नागरिकता दी है। नड्डा ने कहा,  दलित नेता और कांग्रेस पार्टी सीएए के बारे में कुछ भी नहीं जानते है, सिर्फ भ्रम फैला रहे हैं। उन्होंने कहा, इनकी राजनीति समाप्त हो चुकी है, इनको समझ में आ गया है कि देश बदल चुका है, मोदी जी के नेतृत्व में तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस कहती है कि इस कानून से अल्पसंख्यकों की नागरिकता छीनी जाएगी। सीएए नागरिकता देने का कानून है, नागरिकता लेने का नहीं। जिन लोगों को कोई जानकारी नहीं है, वो सीएए पर लोगों को भड़का रहे हैं। 

नड्डा ने कहा कि सीएए से किसी को घबराने की जरूरत नहीं है। यह जनता का ही कानून है। उन्होंने कहा कि पिछले कई सालों में भारत की राजनीति में आजादी के बाद लिए गए निर्णयों से नुकसान ही पहुंचा है। कांग्रेस पर तंज कसते हुए जेपी नड्डा ने कहा कि कांग्रेस नागरिकता के मुद्दे पर मुस्लिमों को भड़का रही है। राहुल गांधी को चैलेंज देते हुए उन्होंने कहा कि अगर वो सीएए पर 10 लाइनें भी बोल दें तो हम मान जाएंगे।  जेपी नड्डा ने कहा कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश और देश में दंगे फैलाने की साजिश रच रही है। ये देश को अस्थिर करना चाहते हैं। कांग्रेस नेताओं ने हिंसा फैलाने वालों का समर्थन किया है। कांग्रेस पार्टी हताश हो चुकी है। कांग्रेस नेताओं ने पाकिस्तान की भाषा में बयान दिए।वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोकतंत्र में लोकतांत्रिक तरीके से हर किसी को अपनी बात रखने का हक है। अपनी बात मनवाने के लिए अराजकता फैलाने वाले भ्रम में न रहें। उन्होंने कहा कि सरकार के पास हर समस्या का समाधान है और वह अपने तरीके से करेगी। जिसने भी सार्वजनिक संपत्ति को क्षति पहुंचायी है उससे वसूली तो होकर रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग कल तक पीएफआई और सिमी के इशारे पर जगह-जगह आग लगाने पर तुले हुए थे, अब उन्हें इस बात का एहसास हो गया है कि उनकी सम्पत्तियां जब्त हो जाएंगी। अब ये लोग अपनी महिलाओं और बच्चों को आगे करके जगह-जगह माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: CAA के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पारित करेगी राजस्थान सरकार

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारें उपद्रवियों के पैर छूकर उनसे मिन्नतें किया करती थीं। वर्तमान में सभी विपक्षी दलों की दुकानें बंद हो रही हैं, यही कारण है कि वो भ्रम फैलाने का प्रयास कर रहे हैं।  उन्होंने कहा कि विपक्षी दल इन मुद्दों को लेकर अपना वोट बैंक बना रहे थे, लेकिन मोदी जी के नेतृत्व में एक-एक करके सभी मुद्दों का समाधान हो गया है। योगी ने कहा कि हमारा दायित्व बनता है कि जनता को वास्तविकता से अवगत कराएं ताकि वो राष्ट्रीय पुनर्निर्माण और एक भारत श्रेष्ठ भारत के वर्तमान कार्यक्रम के साथ खुद को जोड़ सकें। कश्मीर में अनुच्छेद 370 के समाप्त होने से विपक्ष की बौखलाहट साफ दिखती है। विपक्ष पाकिस्तान की भाषा बोल रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून भारत की विरासत से जुड़ा हुआ मुद्दा है। भारत की परंपरा रही है कि उसकी शरण में आए हुए लोगों की वो रक्षा करें। सीएए नागरिकता देने का कानून है, नागरिकता लेने का नहीं। विपक्ष को इसकी वास्तविकता को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि 500 वर्षों से अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण की जो मांग चली आ रही थी, उसका मार्ग मोदी जी के नेतृत्व में प्रशस्त हुआ है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।