जूडा ने किया अस्पताल में प्रदर्शन, 5 घंटो तल सेवाएं रही ठप

जूडा ने किया अस्पताल में प्रदर्शन, 5 घंटो तल सेवाएं रही ठप

आपको बता दें कि नीट की काउंसलिंग जल्द कराने की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टरों ने देशव्यापी आह्वान पर भोपाल में भी प्रदर्शन किया। अध्यक्ष ने आगे कहा कि हड़ताल की वजह से इमरजेंसी सेवाएं प्रभावित नहीं हुई।

भोपाल। राजधानी भोपाल में गांधी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने नीट की काउंसलिंग में हो रही देरी पर नाराजगी जताते हुए सोमवार को प्रदर्शन किया है। जानकारी के मुताबिक जूनियर डॉक्टरों OPD और OT में भी नहीं पहुंचे। लगभग 5 घंटे तक रूटीन सेवाएं ठप रही।

इसे भी पढ़ें:Coronavirus Variant Omicron | कोरोना के नये वेरिएंट 'ओमीक्रोन' को लेकर क्या है भारत सरकार की तैयारी, पढ़ें पूरी रिपोर्ट 

जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के आह्वान पर जूनियर डॉक्टरों ने सुबह 8 से दोपहर 1 बजे तक रूटीन सेवाओं से दूरी बनाईं। एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. हरीश पाठक ने जानकारी देते हुए कहा कि नीट की काउंसलिंग में हो रहे विलंब की वजह से PG छात्रों की पिछले 6 महीने से कमी हो रही है।

वहीं इस कारण मौजूदा जूनियर डॉक्टरों पर काम का ज्यादा लोड आ गया है। जिससे मध्य प्रदेश समेत पूरे देश में जूनियर डॉक्टर परेशान हैं। न सिर्फ उनके स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है बल्कि मरीजों को भी बराबर इलाज नहीं मिल पा रहा है।

इसे भी पढ़ें:मानसून सत्र में हंगामे को लेकर बड़ा एक्शन, शीतकालीन सत्र से कांग्रेस, टीएमसी और शिवसेना के 12 सांसद राज्यसभा से निलंबित 

आपको बता दें कि नीट की काउंसलिंग जल्द कराने की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टरों ने देशव्यापी आह्वान पर भोपाल में भी प्रदर्शन किया। अध्यक्ष ने आगे कहा कि हड़ताल की वजह से इमरजेंसी सेवाएं प्रभावित नहीं हुई। 5 घंटे सांकेतिक रूप से प्रदर्शन करने के बाद वापस काम पर लौट आए हैं। वहीं जानकारी मिली है कि सभी जूनियर डॉक्टर काली पट्‌टी बांधकर काम करेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।