मानसून सत्र में हंगामे को लेकर बड़ा एक्शन, शीतकालीन सत्र से कांग्रेस, टीएमसी और शिवसेना के 12 सांसद राज्यसभा से निलंबित

मानसून सत्र में हंगामे को लेकर बड़ा एक्शन, शीतकालीन सत्र से कांग्रेस, टीएमसी और शिवसेना के 12 सांसद राज्यसभा से निलंबित

जिन सांसदों को निलंबित किया गया है उनमें सीपीएम के एलमाराम करीम, कांग्रेस के फूलों देवी नेताम, छाया वर्मा, रिपुन बोरा, सीपीआई के बिनॉय विश्वम, टीएमसी की डोला सेन और शांता क्षेत्र शामिल हैं।

कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और शिवसेना के 12 राज्यसभा सांसदों को सदन से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन के बाद यह सांसद संसद के शीतकालीन सत्र में भाग नहीं ले सकेंगे। निलंबित सांसदों में सीपीएम और सीपीआई के भी सदस्य शामिल हैं। जिन सांसदों को निलंबित किया गया है उनमें सीपीएम के एलमाराम करीम, कांग्रेस के फूलों देवी नेताम, छाया वर्मा, रिपुन बोरा, सीपीआई के बिनॉय विश्वम, टीएमसी की डोला सेन और शांता क्षेत्र शामिल हैं।

इसके अलावा कांग्रेस के सैयद नासिर हुसैन, शिवसेना की प्रियंका चतुर्वेदी और अनिल देसाई तथा कांग्रेस के ही अखिलेश प्रसाद सिंह भी शामिल है। सदन के पिछले सत्र में अनुशासनहीनता के आरोप में राज्यसभा के इन 12 सांसदों को निलंबित किया गया है। सदन कल, 30 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। उपसभापति हरिवंश की अनुमति से संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने इस सिलसिले में एक प्रस्ताव रखा जिसे विपक्षी दलों के हंगामे के बीच सदन ने मंजूरी दे दी। 

इसे भी पढ़ें: तीनों कृषि कानून वापस लेने वाला बिल पास, लोकसभा के बाद राज्यसभा ने भी दी मंजूरी

आपको बता दें कि संसद के मॉनसून सत्र के दौरान राज्यसभा में खूब हंगामा हुआ था। हंगामें के दौरान धक्का-मुक्की करने और सदन की मर्यादा का कथित तौर पर उल्लंघन करने के आरोपों के बाद राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने इस मामले की जांच के लिए एक समिति गठित की थी। समिति की सिफारिशों के आधार पर इन सांसदों के खिलाफ आज कार्रवाई की गई। संसद का शीतकालीन सत्र आज आरंभ हुआ। यह 23 दिसंबर तक प्रस्तावित है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।