शिवराज सरकार के योग से निरोग अभियान पर कमलनाथ ने किए सवाल खड़े

शिवराज सरकार के योग से निरोग अभियान पर कमलनाथ ने किए सवाल खड़े

कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज का घेराव करते हुए कहा कि बड़ा शर्मनाक है कि ऐसे समय जब हाईकोर्ट भी बार-बार निर्देश दे रहा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन, इंजेक्शन और बेड की व्यवस्था सरकार तत्काल करे, सरकार ने जनता को गुमराह करने के लिए एक नया कार्यक्रम योग से निरोग चालू कर दिया है?

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को कम करने के लिए सरकार लोगों में इम्युनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता) बढ़ाने के लिए योग का सहारा ले रही है। प्रदेश में शुक्रवार से सभी कोविड सेंटर और होम आइसोलेट मरीजों में योगा के माध्यम से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और मानसिक रूप से स्वस्थ्य रखने के लिए 'योग से निरोग' अभियान की शुरुआत हो रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसकी शुरुआत की। वही मुख्यमंत्री शिवराज के इस अभियान पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने तंज कसा है।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के पीडब्ल्यूडी मंत्री ने निकाली डॉक्टर की भर्ती, जेब से देंगे दो लाख वेतन

कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि देश में, प्रदेश में मेडिकल इमरजेंसी के हालात हैं। ना लोगों को बेड मिल पा रहा है, ना ऑक्सीजन, ना समय पर इलाज और ना जीवन रक्षक दवाइयां व इंजेक्शन ? आज भी जबलपुर में ऑक्सीजन की कमी से कुछ लोगों की मौतों की दुःखद खबर सामने आई है? 

कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज का घेराव करते हुए कहा कि बड़ा शर्मनाक है कि ऐसे समय जब हाईकोर्ट भी बार-बार निर्देश दे रहा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन, इंजेक्शन और बेड की व्यवस्था सरकार तत्काल करे, सरकार ने जनता को गुमराह करने के लिए एक नया कार्यक्रम "योग से निरोग" चालू कर दिया है? कोरोना कर्फ्यू में भी इसका प्रचार-प्रसार, होर्डिंग व विज्ञापन का काम चालू हो चुका है। लाखों- करोड़ों रुपये इस कार्यक्रम के प्रचार-प्रसार व शुभारंभ के नाम पर उड़ा दिए जाएंगे, आपदा में भी अवसर? जबकि जरूरत आज प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन, वेंटीलेटर व अन्य सुविधाओं जुटाने व उनकी व्यवस्था करने की है। गरीब - माध्यम वर्ग को राहत प्रदान करने की है?

 

इसे भी पढ़ें: निगरानी टीम घर-घर जाकर करेगी कोरोना संदिग्धों की जांच घर-घर करेंगी


कमलनाथ ने कोरोना से बिगड़ते हालातों पर चिंता जताते हुए कहा कि अभी समय अभियानों-कार्यक्रम का नहीं है। मेहरबानी करकर जनता को गुमराह करने वाले इन कार्यक्रमों-अभियानों व इसके प्रचार-प्रसार, शुभारंभ  के नाम पर लाखों लुटाने से बचिये? अभी असली जरूरत लोगों को अस्पतालों में बेड मिले, इलाज मिले, ऑक्सीजन मिले, इंजेक्शन मिले, उसकी पूर्ति की है, सब छोड़ आप प्रदेश की जनता के हित के लिये अभी उसी पर ध्यान दीजिए।

पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में रोज ऑक्सीजन की कमी से मौतों की, ऑक्सीजन के संकट की, अस्पताल की दहलीज पर दम तोड़ते मरीजों की, मुक्तिधामो में वेटिंग की, इलाज के लिये लोगों के भटकने की, ऑक्सीजन की मारामारी की तस्वीरें सामने आ रही है, इस पर सबसे पहले ध्यान दीजिए। इस महामारी के खत्म होने के बाद फिर आपके अभियान-कार्यक्रमों की नौटंकी को आप चालू कर देना, अभी तो प्रदेश की जनता को इन अभियानों व इनके नाम पर फिज़़ूलखर्ची से बख्शिये।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।