कश्मीर घाटी कड़ाके की ठंड की चपेट में, गुलमर्ग में पारा शून्य से 10.4 डिग्री सेल्सियस नीचे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 29, 2021   15:34
कश्मीर घाटी कड़ाके की ठंड की चपेट में, गुलमर्ग में पारा शून्य से 10.4 डिग्री सेल्सियस नीचे

वार्षिक अमरनाथ यात्रा के लिए आधार शिविर के रूप में उपयोग में आने वाले पहलगाम में न्यूनतम तापमान शून्य से 6.6 डिग्री नीचे रहा जबिक पिछली रात यह शून्य से 7.9 डिग्री सेल्सियस नीचे था।

श्रीनगर। कश्मीर में कड़ाके की ठंड पड़ रही है और पर्यटकों के बीच खूबसूरती के लिए विख्यात गुलमर्ग में इस मौसम का अब तक का सबसे कम तापमान शून्य से 10 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। कश्मीर घाटी मंगलवार से ‘चिल्लई-कलां’ की गिरफ्त में है। यह 40 दिन की अवधि होती है और इस दौरान हाड़ कंपाने वाली ठंड पड़ती है। अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के गुलमर्ग में तापमान शून्य से 10.4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया जबकि पिछली रात यह शून्य से 9.4 डिग्री सेल्सियस नीचे था।

वार्षिक अमरनाथ यात्रा के लिए आधार शिविर के रूप में उपयोग में आने वाले पहलगाम में न्यूनतम तापमान शून्य से 6.6 डिग्री नीचे रहा जबिक पिछली रात यह शून्य से 7.9 डिग्री सेल्सियस नीचे था। वहीं, श्रीनगर में तापमान शून्य से 2.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। काजीगुंड में तापमान 0.6 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं दक्षिणी कोकरनाग में तापमान शून्य से 0.4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। 

इसे भी पढ़ें: देशभर के लोग अब आसानी से जम्मू-कश्मीर में बना सकेंगे घर, रियल सेक्टर क्षेत्र में हुआ बड़ा निवेश

उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा में न्यूनतम तापमान 3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। ‘चिल्लई-कलां’ एक ऐसा काल है जब घाटी शीत लहर की चपेट में होती और तापमान काफी घट जाता है। यहां डल झील समेत घाटी के जलाशय एवं जलापूर्ति लाइनों में पानी जम जाता है। इस दौरान हिमपात की संभावना काफी रहती है तथा ज्यादातर क्षेत्रों खासकर ऊंचाई वाले इलाकों में अधिक से बहुत अधिक हिमपात होता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।