केजरीवाल हमला मामला: विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का फैसला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2018   19:29
केजरीवाल हमला मामला: विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का फैसला

सिसोदिया ने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री पर हालिया हमले और समूचे शहर की मतदाता सूची में 30 लाख से अधिक नामों को हटाने के मुद्दे पर दिल्ली मंत्रिमंडल ने सोमवार को दिल्ली विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाने का फैसला किया है।’’

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर हालिया हमले और अन्य मुद्दों पर चर्चा के लिये बृहस्पतिवार को आप सरकार ने दिल्ली विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र सोमवार को बुलाने का फैसला किया। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने संवाददाताओं से कहा कि विशेष सत्र में शहर की मतदाता सूचियों में नामों को कथित तौर पर हटाये जाने के मुद्दे पर भी चर्चा होगी।

सिसोदिया ने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री पर हालिया हमले और समूचे शहर की मतदाता सूची में 30 लाख से अधिक नामों को हटाने के मुद्दे पर दिल्ली मंत्रिमंडल ने सोमवार को दिल्ली विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाने का फैसला किया है।’’ उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री के साथ हुई घटना को लेकर केन्द्र एवं दिल्ली पुलिस के व्यवहार को देखते हुए राज्य सरकार ने यह सत्र बुलाने का फैसला किया है।

मंगलवार को दिल्ली सचिवालय में मुख्यमंत्री कार्यालय के बाहर एक व्यक्ति ने केजरीवाल के ऊपर मिर्ची पाउडर फेंक दिया था। हमले में मुख्यमंत्री का चश्मा गिर गया, हालांकि उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचा। हमलावर की पहचान अनिल कुमार शर्मा के तौर पर हुई है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी (आप) ने सुरक्षा में हुई चूक के लिये दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया। सिसोदिया ने आरोप लगाया कि हमला भाजपा के इशारे पर किया गया है। केजरीवाल ने बुधवार को दावा किया कि उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी उन्हें खत्म करने की साजिश रच रहे हैं। दिल्ली भाजपा ने इस घटना को एक ‘‘नाटक’’ बताया और इस संबंध में ‘‘उच्च स्तरीय जांच’’ की मांग की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।