तीसरी लहर को लेकर तैयारियों में जुटी केजरीवाल सरकार, लगभग 7000 बेड किए जा रहे तैयार

तीसरी लहर को लेकर तैयारियों में जुटी केजरीवाल सरकार, लगभग 7000 बेड किए जा रहे तैयार

केजरीवाल ने आज मयूर विहार फेज़-1 फ्लाईओवर पर बने नए ‘क्लोवरलीफ़’ की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि बारापुला फेज़-3 से जुड़े इन लूप और रैम्प के खुलने से अब दिल्ली के लोगों को काफ़ी सहूलियत मिलेगी।

कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर की आशंका के बीच सरकारें अपनी तैयारियां कर रही हैं। दिल्ली में भी तीसरी लहर की आशंका को लेकर तैयारियां शुरू की जा चुकी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकारी अस्पतालों के अंदर 6,800 नए बेड तैयार किए जा रहे हैं, ये बेड छह महीने में बनकर तैयार हो जाएंगे। आज दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में 10,000 बेड हैं, ये 70% का इज़ाफ़ा है।

केजरीवाल ने आज मयूर विहार फेज़-1 फ्लाईओवर पर बने नए ‘क्लोवरलीफ़’ की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि बारापुला फेज़-3 से जुड़े इन लूप और रैम्प के खुलने से अब दिल्ली के लोगों को काफ़ी सहूलियत मिलेगी। ख़ासकर दिल्ली-नोएडा के बीच सफ़र करने वाले लोगों को इसका काफ़ी फ़ायदा होगा। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली सरकार शालीमार बाग, किराड़ी, सरिता विहार, सुल्तानपुरी, रघुवीर नगर, GTB अस्पताल के साथ-साथ चाचा नेहरू अस्पताल में ₹1216.72 करोड़ की लागत से 6836 नए बेड बनाने जा रही है। आज मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने इस परियोजना को मंजूरी दी।

इसे भी पढ़ें: आम आदमी पार्टी ने राज्यपाल से विशेष सत्र बुलाकर कैप्टन अमरिंदर सिंह को बहुमत साबित करने के निर्देश देने की मांग की

आपको बता दें कि दिल्ली में शुक्रवार को कोविड-19 के किसी मरीज की मौत नहीं हुई जबकि 46 नये मामले सामने आये। शहर के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक संक्रमण की दर 0.06 प्रतिशत है। राष्ट्रीय राजधानी में वैश्विक महामारी की दूसरी लहर शुरू होने के बाद से 17वीं बार ऐसा हुआ है जब किसी दिन में किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 18 जुलाई, 24 जुलाई, 29 जुलाई, दो अगस्त, चार अगस्त, आठ अगस्त, 11 अगस्त और 12 अगस्त, 13 अगस्त ,16 अगस्त, 20 अगस्त, 21 अगस्त, 22 अगस्त, 23 अगस्त और 24 अगस्त और 26 अगस्त को भी कोविड-19 से किसी की मौत नहीं हुई थी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।