केजरीवाल-मान की प्रेस कॉन्फ्रेंस, धक्का-मुक्की और मारपीट, पंजाब पुलिस के कर्मियों पर दर्ज हो गया मामला

केजरीवाल-मान की प्रेस कॉन्फ्रेंस, धक्का-मुक्की और मारपीट, पंजाब पुलिस के कर्मियों पर दर्ज हो गया मामला
ANI

एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में आप संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मौजूद थे। उनके साथ पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान भी प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। आरोप के मुताबिक वरिष्ठ पत्रकार को न केवल वहां आने से रोका गया। बल्कि उनसे मारपीट की गई और उन्हें घसीटकर बाहर निकाल दिया गया। यहां तक की उन्हें जेल में डालने की धमकी भी दी गई।

पंजाब और दिल्ली पुलिस एक मामले को लेकर आमने-सामने आ गई है। दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में पंजाब के कुछ पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। मामला 26 अप्रैल को आम आदमी पार्टी की प्रेस कॉनफ्रेंस में पत्रकार से कथित तौर पर अभद्र व्यवहार किए जाने को लेकर है। एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में आप संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मौजूद थे। उनके साथ पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान भी प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। आरोप के मुताबिक वरिष्ठ पत्रकार को न केवल वहां आने से रोका गया। बल्कि उनसे मारपीट की गई और उन्हें घसीटकर बाहर निकाल दिया गया। यहां तक की उन्हें जेल में डालने की धमकी भी दी गई।

इसे भी पढ़ें: छात्रों का प्रदर्शन, कैंपस में शुद्धिकरण, BHU यूनिवर्सिटी में इफ्तार की असली कहानी क्या है?

ये घटना 26 अप्रैल को दिल्ली के इम्पिरीयल होटल की है। पत्रकार वहां आप की प्रेस कॉनफ्रेंस को कवर करने गए थे। लेकिन आरोप हैं कि वहां पहुंचने पर उनके साथ धक्का-मुक्की हुई और मारपीट की गई। विपक्ष के नेताओं समेत प्रेस क्लब, प्रेस क्लब ऑफ चंडीगढ़ समेत तमाम पत्रकारों ने इस घटना की निंदा करते हुए आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की है।  

इसे भी पढ़ें: ओबीसी के फायदे के लिए शिवसेना छोड़ने का जोखिम उठाया : छगन भुजबल

पत्रकार ने एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से भी पूरी घटना को बयां किया है। नरेश वत्स ने पोस्ट में लिखा कि पत्रकारिता जोखिम भरा काम है। ये तो हम सभी जानते है।  लेकिन 26 अप्रैल को नई दिल्ली स्थित इंपीरियल होटल में पंजाब के मुख्यमंत्री भगंवत मान और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के संयुक्त संवाददाता सम्मेलन की खबर कवर करने के लिए लात घुसे भी खाने पड़ेंगे। इसका अनुभव  पंजाब की पुलिस ने करा दिया  ठीक 12 बजकर 5 मिनट पर प्रैस कान्फ्रैस स्थल पर पहुंचा तो गेट पर तैनात पुलिस कर्मियों ने ये कहते हुए रोका कि आप अंदर नही जा सकते मैने अपना परिचय देते हुए अपना पीआईबी कार्ड दिखाया तो उन्होंने कहा हम अंदर से पुछ कर आते है। उसके बाद एक अधिकारी आते है और कहते है कि आप क्या है मैने जवाब दिया मैं पत्रकार हूं। और न्यूज़ कवरेज के लिए आया हूं। मैने उनको अपना फिर पीआईबी कार्ड दिखाया तो उन्होंने कहा कि हम आपको पत्रकार नही मानते चले जाइये। मैने इस पर विरोध जताया तो उस अधिकारी ने कहा कि इनको जेल में डाल दो। इन वाक्यों ने मुझे असहज कर दिया उसके बाद पांच पुलिस कर्मियों ने मेरे साथ जोर जबरदस्ती की और घसीटने लगे।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।