अयोध्या में मेहमान बनकर पहुंचीं दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जुंग सुक

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Nov 6 2018 6:24PM
अयोध्या में मेहमान बनकर पहुंचीं दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जुंग सुक
Image Source: Google

किम वहां पर अयोध्या की राजकुमारी हू ह्वांग-ओक को समर्पित एक स्मारक के उन्नयन और सौंदर्यीकरण कार्य की शुरूआत करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुईं।

अयोध्या (उ.प्र.)। दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जुंग सुक अयोध्या में दिवाली महोत्सव में हिस्सा लेने के लिए मंगलवार को इस पवित्र शहर पहुंचीं और उन्होंने अपनी यात्रा की शुरूआत रानी हू के स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित करके की। किम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ स्मारक स्थल पहुंचीं। किम वहां पर अयोध्या की राजकुमारी हू ह्वांग-ओक को समर्पित एक स्मारक के उन्नयन और सौंदर्यीकरण कार्य की शुरूआत करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुईं। हू ह्वांग ओक अयोध्या की राजकुमारी थीं जो कि कोरिया चली गई थीं।

 
किम बाद में सरयू नदी के तट पर पहुंचीं जहां उन्होंने भगवान राम, सीता का किरदार निभा रहे कलाकारों का स्वागत किया। ‘राम दरबार’ के तहत ये कलाकार एक हेलीकाप्टर में पहुंचे थे। कलाकारों के हेलीकाप्टर से उतरने पर किम ने ‘सीता’ का माल्यार्पण किया जबकि उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने भगवान राम और लक्ष्मण का माल्यार्पण करके उनका स्वागत किया।
 
केंद्रीय मंत्री वी के सिंह भी अयोध्या में आयोजित इस कार्यक्रम में उपस्थित थे। किम की यह यात्रा गत चार नवम्बर को शुरू हुई थी और इससे अयोध्या की राजकुमारी के बारे में उत्सुकता बढ़ गई है जिन्होंने एक कोरियाई नरेश से विवाह किया था। कोरियाई किंवदंती के अनुसार अयोध्या की राजकुमारी 48 ईस्वी में कोरिया गई थीं और उन्होंने नरेश किम सुरो से विवाह किया था। बड़ी संख्या में कोरियाई अपनी वंशावली इस राजकुमारी से जोड़ते हैं जिन्हें महारानी हू ह्वांग-ओक के तौर पर जाना जाता है।
 


भारत में दक्षिण कोरियाई दूतावास के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘महारानी हू ह्वांग-ओक की दंतकथा दोनों देशों को सांस्कृतिक तौर पर बांधती है और उनकी यात्रा दोनों देशों के लोगों के बीच संबंधों को और प्रगाढ़ बनाएगी।’’ पूरे अयोध्या शहर में किम जुंग सुक की तस्वीरों वाली होर्डिंग लगी हैं जिसमें लिखा है ‘‘अयोध्या में स्वागत है।’’ इस दौरान महारानी सुरीरत्ना स्मारक परियोजना के संबंध में एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए जिससे वर्तमान स्मारक के विस्तार और उन्नयन में सहायता मिलेगी।
 
गत जुलाई में दोनों देशों ने सुरीरत्ना स्मारक परियोजना के विस्तार को लेकर एक समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। अयोध्या में एक साधु उत्तम दास ने पीटीआई से कहा, ‘‘यह अयोध्या के लिए गर्व की बात है कि वह अयोध्या की यात्रा पर हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अयोध्या की एक राजकुमारी करीब दो हजार वर्ष पहले वहां गई थीं और अब प्रथम महिला अयोध्या की यात्रा पर हैं...।’’ बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन, दक्षिण कोरिया के राजदूत शिन बोंगकिल भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story