मेरठ की किठौर विधानसभा : सियासी सूरमाओ की कर्मस्थली,नब्ज पकड़ने वाले है यहाँ के मतदाता

मेरठ की किठौर विधानसभा : सियासी सूरमाओ की कर्मस्थली,नब्ज पकड़ने वाले है यहाँ के मतदाता

किठौर विधानसभा में तीन नगर पंचायत किठौर, शाहजहांपुर और खरखौदा, तीन ब्लाक माछरा, खरखौदा और रजपुरा आते हैं। जिनके वोटर क्षेत्र का विधायक चुनते हैं।

मेरठ,किठौर का प्राचीन नाम कृष्ण ठौर बताया जाता है। मथुरा से कौरवों-पांडवों की राजधानी हस्तिनापुर जाते समय श्रीकृष्ण यहां ठहरते थे। बाद में इसका नाम किठौर पड़ गया। फिलहाल किठौर बागवानी और नसर्री कारोबार के साथ किठौर सियासत की भी नसर्री कहलाता है। चुनाव की बात करें तो 1977 में खरखौदा से अब्दुल हलीम, मवाना से रामजीलाल सहायक, मुरादनगर से सखावत हुसैन और मेरठ शहर से चार बार विधायक रहे मंजूर अहमद जैसे दिग्गज किठौर के ही मूल निवासी थे। वहीं बसपा से दो बार राज्यसभा सांसद और प्रदेश अध्यक्ष रहे मुनकाद अली भी यहीं के हैं।

सियासी ऐतबार से किठौर का अपना अलग मुकाम है। प्रदेश के सियासी धुरंधरों की कर्मस्थली होने के नाते कई बार सत्ता का रास्ता यहीं से होकर गुजरता है। यहां 2002 से सपा से हैट्रिक लगा रहे तत्कालीन कैबिनेट मंत्री शाहिद मंजूर को 2017 के चुनाव में भाजपा के सत्यवीर त्यागी ने शिकस्त दी थी। हालांकि इस सीट पर किसी एक राजनीतिक दल का कब्जा नही रहा। यहां के आवाम ने सपा, बसपा, भाजपा, कांग्रेस और लोकदल को प्रतिनिधत्व करने का मौका दिया। 

इस क्षेत्र की सियासी धुरी कई वर्षों तक अब्दुल हलीम और मंजूर अहमद परिवार के बीच घूमती रही। मंजूर अहमद कांग्रेस के टिकट पर यहां से विजयी हुए तो अब्दुल हलीम तत्कालीन खरखौदा सीट पर जीतकर मंत्री बने। 1989 में अब्दुल हलीम के बेटे परवेज हलीम यहां जनता दल से विधायक चुने गए। 1993 में भाजपा के रामकृष्ण वर्मा ने उन्हें हराया। जिसका बदला परवेज हलीम ने 1996 में रामकृष्ण वर्मा को हराकर लिया। 2002 में शाहिद मंजूर ने अपने पिता की विरासत संभालते हुए न सिर्फ बसपा के केदारनाथ को हराया, बल्कि डेढ़ दशक 2017 तक सपा से जीत की हैट्रिक लगाई। प्रदेश में वह कैबिनेट मंत्री रहे। 2017 के चुनाव में समीकरण फिर बदले और भाजपा के सत्यवीर त्यागी ने शाहिद को लगभग 10,822 वोटों से हराकर विधायक चुने गए। इस बार सपा ने शाहिद मंजूर, बसपा ने केपी मावी, कांग्रेस ने बबीता गुर्जर और भाएए ने जर्रार के बेटे को मैदान में उतारा है। भाजपा ने अभी प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है।

3 लाख 62 हजार 802 वाले कुल मतदाता किठौर क्षेत्र में है।  जिसमे लगभग एक लाख 17 हजार मुस्लिम, 70 हजार दलित, जाटव, करीब 20-20 हजार त्यागी-ब्राह्माण, 30 से 40 हजार गुर्जर, जाट 15 हजार, ठाकुर करीब 25 हजार और करीब 50 हजार पाल, कश्यप, प्रजापति, आदि जाति के लोग हैं।

किठौर विधानसभा में तीन नगर पंचायत किठौर, शाहजहांपुर और खरखौदा, तीन ब्लाक माछरा, खरखौदा और रजपुरा आते हैं। जिनके वोटर क्षेत्र का विधायक चुनते हैं।लगभग दो दशक सत्ता से वाबस्ता रहने के बावजूद किठौर अब जाकर विकास के पथ पर आगे बढ़ा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।