लालू को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी की घोषणा कर देनी चाहिए: रामविलास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2019   20:48
लालू को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी की घोषणा कर देनी चाहिए: रामविलास

रामचंद्र पासवान को बढाए थे। एक बार जीत जाता पर चार बार एमपी (सांसद) रहा। पारस बाबू 1977 से विधायक रहे। चिराग नक्सल प्रभावित जमुई से चुनाव दोबारा भारी मतों जीते।

पटना। केंद्रीय मंत्री और लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान ने गुरुवार को कहा कि राजद प्रमुख लालू प्रसाद सहित देश के अन्य वयोवृद्ध राजनेताओं को नई पीढी को मौका देते हुए अपने-अपने राजनीतिक उत्तराधिकारियों की घोषणा कर देनी चाहिए।

पटना के बापू सभागार में लोजपा के स्थापना दिवस पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए रामविलास ने अपने पुत्र चिराग पासवान के पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष और भतीजा प्रिंस राज को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर उन्हें शुभकामना दी, खुशी का इजहार किया और कहा  हम तो दूसरे लोगों को भी कहेंगे भईया नया जेनरेशन है, छोड़ते (पार्टी पद) क्यों नहीं हो। लालू जी जेल में बंद हैं। अपने ही बच्चों में बनाना है (राजद का राष्ट्रीय अध्यक्ष) । चाहे तेजस्वी, तेजप्रताप या मीसा को बनावें। किसी को भी बना दें। झारखंड में सीबू सोरेन भी अपना (झामुमो प्रमुख का पद) पकड़े हुए हैं। मुलायम सिंह यादव को जबतक अखिलेश यादव ने नहीं हटाया तबतक पकड़े रहे। उधर देवगौडा जी 93 साल के हो गए हैं। उधर अकाली दल के हैं सभी जगह...।

इसे भी पढ़ें: सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास विदेश नीति का भी मूलमंत्र: जयशंकर

उन्होंने कहा,   नया जेनरेशन आ गया है। अपने जीते जी देख लो कि हमने जिस पौधे को लगाया है वह पौधा फल फूल रहा है। हमारी जो आगे आने वाली पीढी है...। हर बाप को चाहत होनी चाहिए कि हम जितनी दूरी पर पहुंचे हैं, हमारी संतान चाहे बेटा हो या बेटी उससे भी आगे बढे। इसलिए पढाईए लिखाईए अपना उत्ताधिकारी बनाकर उसे आगे बढाने का काम कीजिए। हमलोगों ने किया।’’ परिवारवाद करने के आरोप के बारे में रामविलास ने कहा  ऐसा कोई एक पीढी में कर सकता है। रामचंद्र पासवान को बढाए थे। एक बार जीत जाता पर चार बार एमपी (सांसद) रहा। पारस बाबू 1977 से विधायक रहे। चिराग नक्सल प्रभावित जमुई से चुनाव दोबारा भारी मतों जीते।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।