कानून मंत्री ने लोकसभा में पेश किया तीन तलाक बिल, कांग्रेस ने किया विरोध

law-minister-present-triple-talaq-bill-in-lok-sabha-congress-oppose
अभिनय आकाश । Jun 21, 2019 1:38PM
प्रसाद ने संविधान की प्रक्रियाओं का हवाला देते हुए कहा कि एक बार फिर से बिल को सदन के पटल पर रखते हुए कहा कि जनता ने हमें कानून बनाने के लिए चुना है और कानून पर बहस अदालत में होती है और कोई लोकसभा को अदालत न बनाए।

नई दिल्ली। सत्रहवीं लोकसभा के पांचवें दिन सदन में एक बार में तीन तलाक को गैर कानूनी ठहराने वाला मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक पेश किया गया। काकनू मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बिल को पेश करते हुए कहा कि हमने पिछली सरकार में इस बिल को लोकसभा से तो पारित करा लिया था लेकिन राज्यसभा में यह बिल पास नहीं हो सका था।

इसे भी पढ़ें: लोकसभा अध्यक्ष की अगुवाई में संसद भवन परिसर में मनाया गया योग दिवस

प्रसाद ने संविधान की प्रक्रियाओं का हवाला देते हुए कहा कि एक बार फिर से बिल को सदन के पटल पर रखते हुए कहा कि जनता ने हमें कानून बनाने के लिए चुना है और कानून पर बहस अदालत में होती है और कोई लोकसभा को अदालत न बनाए। मंत्री ने कहा कि यह सवाल सियासत या इबादत का नहीं बल्कि नारी न्याय का सवाल है। उन्होंने कहा कि भारत के संविधान में कहा गया है कि किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जा सकता, इसलिए यह संविधान के खिलाफ कतई नहीं है बल्कि उनके अधिकारों से जुड़ा हैं।

इसे भी पढ़ें: संसद में उठा बिहार में बच्चों की मौत का मामला

बता दें कि 17वीं लोकसभा के गठन के बाद नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का यह पहला बिल है। लोकसभा में हंगामें के बीच रविशंकर प्रसाद ने इन्स्टैंट ट्रिपल तलाक को गैरकानूनी बनाने के लिए बिल पेश किया। लेकिन तीन तलाक बिल का कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने विरोध किया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़