• लेफ्टिनेंट नोंग्रुम, बंकरों में छिपे पाकिस्तानी के छह सैनिकों को किया था गोलियों से छल्ली!

निधि अविनाश Jul 24, 2021 22:28

मेघालय के शिलांग के रहने वाले लेफ्टिनेंट कीशिंग क्लिफोर्ड नोंग्रम का जन्म 7 मार्च 1975 को हुआ था। उनके पिता कीशिंग पीटर भारतीय स्टेट बैंक में काम करते थे, जबकि उनकी मां बेली नोंग्रुम एक गृहिणी थीं। एक बच्चे के रूप में, नोंग्रुम एक ईमानदार और आज्ञाकारी छात्र, एक उत्साही संगीत प्रेमी और स्कूल फुटबॉल टीम के कप्तान थे।

26 जुलाई 1999 को, भारतीय सशस्त्र बलों ने पाकिस्तान के खिलाफ एक गंभीर और निर्णायक युद्ध जीता। इस युद्ध में, कई बहादुर युवा सैनिकों ने कारगिल युद्ध के मैदान में अपने देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी। तब से बाइस साल हो चुके हैं, लेकिन कारगिल के वीरों की वीरता और बलिदान आज भी देश के हर लोगों द्वारा याद किया जाता है। हालांकि, लेफ्टिनेंट कीशिंग क्लिफोर्ड नोंगरम और उनके असाधारण साहस के कार्य के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं जो भारतीय सेना को कारगिल युद्ध में एक महत्वपूर्ण बढ़त दिलाने में मदद की थी।

इसे भी पढ़ें: जख्मी होने के बावजूद पाकिस्तान के 4 सैनिकों को मार गिराने वाले जाबाज ने टाइगर हिल पर फहराया था 'तिरंगा'

मेघालय के शिलांग के रहने वाले लेफ्टिनेंट कीशिंग क्लिफोर्ड नोंग्रम का जन्म 7 मार्च 1975 को हुआ था। उनके पिता कीशिंग पीटर भारतीय स्टेट बैंक में काम करते थे, जबकि उनकी मां बेली नोंग्रुम एक गृहिणी थीं। एक बच्चे के रूप में, नोंग्रुम एक ईमानदार और आज्ञाकारी छात्र, एक उत्साही संगीत प्रेमी और स्कूल फुटबॉल टीम के कप्तान थे। वह खुद को फिट रखने के लिए नियमित रूप से फुटबॉल खेलते थे ताकि वह सेना में भर्ती हो सकें। राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएट नोंग्रम को जेएके लाइट इन्फैंट्री की 12 वीं बटालियन में नियुक्ती मिली। आपको बता दें कि कारगिल युद्ध शुरू होने पर लेफ्टिनेंट कीशिंग क्लिफोर्ड नोंगरम सिर्फ 24 वर्ष के थे। युद्ध में उनकी बटालियन बटालिक सेक्टर में तैनात थी। 

जब लेफ्टिनेंट नोंग्रुम ने किया था बंकरों में घुस कर दुश्मनों को गोलियों से छल्ली

30 जून, 1999 की रात को, लेफ्टिनेंट नोंग्रुम की यूनिट को प्वाइंट 4812 हासिल करने की जिम्मेदारी दी गई, इस ऑपरेशन में लेफ्टिनेंट कीशिंग क्लिफोर्ड नोंग्रम को प्वाइंट 4812 के क्लिफ फीचर पर हमले को अंजाम देने का काम सौंपा गया था। दक्षिण पूर्वी दिशा से खड़ी चोटी पर चढ़ना लगभग असंभव था, लेकिन लेफ्टिनेंट नोंग्रुम ने इस चुनौती को स्वीकार किया। वह दुश्मन बंकरों तक पहुंच कर खड़ी ढलानों पर चढ़ने में कामयाब हुए।लेकिन पाकिस्तानी घुसपैठियों  के कारण लेफ्टिनेंट नोंग्रुम और उनकी बटालियन को भारी मोर्टार और गन फायर के रूप में दुश्मन के मजबूत विरोध का सामना करना पड़ा। लेफ्टिनेंट नोंग्रुम ने दुश्मनों का सामना करने के लिए दुश्मन के बंकरों पर फायरिंग और ग्रेनेड दागे और बंकरों में छिपे दुश्मन के छह सैनिकों को मार गिराया, लेकिन उन्हें फेंकते समय लेफ्टिनेंट नोंग्रुम को कई गोलियां लगीं। गंभीर रूप से घायल, लेफ्टिनेंट नोंग्रुम बचे हुए बंकर में मशीन गन छीनने के प्रयास में पाकिस्तानी सैनिकों के साथ हाथ से हाथ मिलाकर लड़ते रहे। एक सर्वोच्च बलिदान में, उन्होंने अपनी अंतिम सांस तक लड़ने का फैसला किया और वह तब तक बहादुरी से लड़ते रहे जब तक कि युद्ध के मैदान में अपनी चोटों के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया। 

इसे भी पढ़ें: कारगिल युद्ध: कई गोलियां लगने के बाद भी जारी रखी मेजर राजेश अधिकारी ने दुश्मनों से जंग, तोलोलिंग जीतने के बाद तोड़ा दम

दुश्मन के सामने अपनी साहस दिखाने वाले लेफ्टिनेंट कीशिंग क्लिफोर्ड नोंगरम को मरणोपरांत 15 अगस्त, 1999 को राष्ट्र के दूसरे सर्वोच्च युद्धकालीन वीरता पुरस्कार, महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था। केले ही छह दुश्मन सैनिकों को मार गिराने वाले नोंगरम ने अपने राष्ट्र की सेवा में सर्वोच्च बलिदान दिया। कारगिल विजय दिवस पर, हम इस वीर योद्धा को याद करते हैं और सलाम करते हैं जिन्होंने अपने देश और अपने साथी देशवासियों की रक्षा के लिए अपना जीवन लगा दिया।