• कारगिल युद्ध: कई गोलियां लगने के बाद भी जारी रखी मेजर राजेश अधिकारी ने दुश्मनों से जंग, तोलोलिंग जीतने के बाद तोड़ा दम

रेनू तिवारी Jul 24, 2021 18:48

कारगिल विजय दिवस 2021: कारगिल विजय दिवस 26 जुलाई को कारगिल युद्ध में सैनिकों द्वारा किए गए बलिदान की याद में मनाया जाता है। यह युद्ध जम्मू-कश्मीर के कारगिल जिले में मई और जुलाई 1999 के बीच हुआ था। इस युद्ध में सेना के जवानों मने अदम्य साहस दिखाया और दुश्मनों की छुट्टी कर दी थी।

कारगिल विजय दिवस 2021: कारगिल विजय दिवस 26 जुलाई को कारगिल युद्ध में सैनिकों द्वारा किए गए बलिदान की याद में मनाया जाता है। यह युद्ध जम्मू-कश्मीर के कारगिल जिले में मई और जुलाई 1999 के बीच हुआ था। इस युद्ध में सेना के जवानों मने अदम्य साहस दिखाया और दुश्मनों की छुट्टी कर दी थी। इन जवानों में से एक थे मेजर राजेश सिंह अधिकारी, जिनकी बाहदुरी ने दुश्मनों को हैरान कर दिया था। आइये आपको बताते हैं मरणोपरांत महावीर चक्र जीतने वाले मेजर राजेश सिंह अधिकारी के बारे में विस्तार से। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के लिए खौफ थे मेजर विवेक गुप्ता, कारगिल युद्ध के दौरान तोलोलिंग पर लहराया था तिरंगा 

मेजर राजेश सिंह अधिकारी (महावीर चक्र, मरणोपरांत) (18 ग्रेनेडियर्स)

मेजर राजेश सिंह अधिकारी एक भारतीय सेना अधिकारी थे जिन्होंने कारगिल युद्ध के दौरान अपने प्राणों की आहुति दी थी। उन्हें मरणोपरांत दूसरे सर्वोच्च भारतीय सैन्य सम्मान, युद्ध के मैदान में बहादुरी के लिए महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था। मेजर राजेश सिंह अधिकारी का जन्म दिसंबर, 1970 में नैनीताल, उत्तराखंड में हुआ था। राजेश सिंह अधिकारी के पिता का नाम केएस अधिकारी (पिता) और मां का नाम मालती अधिकारी (माता) था। 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति कोविंद 25 से 28 जुलाई के बीच जम्मू-कश्मीर व लद्दाख का दौरा करेंगे

30 मई 1999 पाकिस्तान से भारतीय राज्य जम्मू और कश्मीर के कारगिल क्षेत्र में भारी लड़ाई छिड़ गई। पाकिस्तानी सेना नॉर्दर्न लाइट इन्फैंट्री के नियमित रूप से आतंकवादियों के रूप में तैयार घुसपैठ के कारण, भारतीय सेना को उन घुसपैठियों की ऊंचाइयों को साफ करने का आदेश दिया गया था। करगिल युद्ध के दौरान दुश्मनों के अधिक ऊंचाई पर होने की वजह से भारतीय फौज के लिए यह लड़ाई आसान नहीं थी। करगिल युद्ध को जीतने के लिए भारतीय जवानों ने साहस के साथ-साथ दिमाग का भी प्रयोग किया। दुश्मनों ने कारगिल के टाइगर हिल पर कब्जा कर लिया था। भारत वहां पर अपनी पकड़ एक बार फिर बनाना चाहता था। 

मैकेनाइज्ड इन्फैंट्री के मेजर राजेश सिंह अधिकारी को तोलोलिंग से पाकिस्तानी घुसपैठिओं को भगाने की जिम्मेदारी दी गयी। 14 मई 1999 को मेजर राजेश अधिकारी ने 10 सदस्यों वाली तीन टीम को तैयार किया और पाकिस्तान के घुसपैठियों को भगाने की योजना बनायी। वह अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए अपनी कंपनी का नेतृत्व कर रहे थे। यूनिवर्सल मशीन गन के साथ, उन्होंने दुश्मनों को उनकी स्थिति से कमजोर करते हुए उन्हें बाहर निकाल दिया। उन्होंने तुरंत रॉकेट लॉन्चर टुकड़ी को दुश्मन की स्थिति में शामिल होने का निर्देश दिया और बिना प्रतीक्षा किए, स्थिति में पहुंचे और करीब-चौथाई लड़ाई में दुश्मन के दो कर्मियों को मार डाला।

अधिकारी ने अपनी सूझबूझ से अपनी मध्यम मशीन गन टुकड़ी को आदेश दिया कि वह चट्टानी विशेषता के पीछे की स्थिति को संभाले और दुश्मन को उलझाए। लड़ाई के दौरान, अधिकारी गोलियों से घायल हो गये थे लेकिन उन्होंने सबयूनिट को निर्देशित करना जारी रखा और दूसरे दुश्मन की स्थिति पर कब्जा कर करके उन्हें पछाड़ दिया। तोलोलिंग में दूसरे स्थान पर भी कब्जा करते हुए प्वाइंट 4590 पर भी भारत ने कब्जा कर लिया। हालांकि, बाद में मेजर राजेश सिंह अधिकारी ने दम तोड़ दिया। उन्हें मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया गया, जो युद्ध के मैदान में बहादुरी के लिए दूसरा सर्वोच्च भारतीय सैन्य सम्मान है।