देव आस्था का महा समागम --बड़ादेव के शुभ आगमन के साथ मंडी में शुरू हुए शिवरात्रि मेले के कारज

देव आस्था का महा समागम --बड़ादेव के शुभ आगमन के साथ मंडी में शुरू हुए शिवरात्रि मेले के कारज

मंगलमय संगीत के मध्य देवी-देवताओं के आगमन से मंडी नगर में पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा। अपने ईष्ट देव-देवियों के दर्शन और उनका आशीर्वाद लेने के लिए नगर में जन सैलाब सा उमड़ रहा था। सबसे पहले पुलघराट के पास जिला प्रशासन की ओर से जिला राजस्व अधिकारी राजीव सांख्यान, तहसीलदार डॉ गणेश ठाकुर और सर्व देवता समाज समिति के अध्यक्ष शिवपाल शर्मा सहित महोत्सव स्वागत समिति के सभी सदस्यों ने बड़ादेव कमरूनाग का स्वागत किया।

मंडी । बड़ादेव कमरूनाग के शुभ आगमन के साथ मंडी नगर में देव आस्था के महासमागम शिवरात्रि महोत्सव-2022 के कारज शुरू हो गए हैं। मेले में सम्मिलित होने के लिए बड़ादेव कमरूनाग सोमवार को मंडी पधारे। बड़ादेव के अलावा छह और देवी-देवता भी सोमवार को छोटी काशी पहुंचे। शिवरात्रि महोत्सव के आनंद में भावविभोर मंडी नगर देव ध्वनियों की दिव्य गूंज से तरंगित दिखा।

 

मंगलमय संगीत के मध्य देवी-देवताओं के आगमन से मंडी नगर में पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा। अपने ईष्ट देव-देवियों के दर्शन और उनका आशीर्वाद लेने के लिए नगर में जन सैलाब सा उमड़ रहा था।

सबसे पहले पुलघराट के पास जिला प्रशासन की ओर से जिला राजस्व अधिकारी राजीव सांख्यान, तहसीलदार डॉ गणेश ठाकुर और सर्व देवता समाज समिति के अध्यक्ष शिवपाल शर्मा सहित महोत्सव स्वागत समिति के सभी सदस्यों ने बड़ादेव कमरूनाग का स्वागत किया।

इसे भी पढ़ें: सीएम करेंगे अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव का शुभारंभ

 वहां से देव कमरूनाग राज माधोराय मंदिर पहुंचे, जहां उपायुक्त मंडी एवं अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव समिति के अध्यक्ष अरिंदम चौधरी ने बड़ादेव का स्वागत किया। उसके बाद देव कमरूनाग ने माधोराय मंदिर में माथा टेका। वहां से बड़ादेव देवलुओं संग राजमहल पहुंचे, जहां राजपरिवार के सदस्यों ने पारंपरिक विधि विधान से उनका स्वागत किया।

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन में फंसे विद्यार्थियों की सकुशल वापसी के लिए सरकार प्रयासरत: मुख्यमंत्री

बड़ादेव के बाद शुकदेव ऋषि शारटी, शुकदेव ऋषि थट्टा, देवी बगलामुखी बाखली व देवी बुढी भैरवा, देव बुढा बिंगल व बजीर झाथी वीर ने राज माधो राव मंदिर में उपस्थिति दर्ज करवाई। वहां से सभी देवता देवलुओं के साथ अपने ठहरने के तय स्थानों को गए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...