भारत को हिन्दू राष्ट्र की मांग पर महंत परमहंस दास ने बुलाई धर्म संसद, अयोध्या के संतों ने बनाई दूरी

भारत को हिन्दू राष्ट्र की मांग पर महंत परमहंस दास ने बुलाई धर्म संसद, अयोध्या के संतों ने बनाई दूरी

महंत परमहंस दास ने बैठक में कहा कि भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित नही किया गया तो 2 अक्टूबर सरयू नदी में जल समाधि लेंगे।उन्होंने कहा कि लंबे समय से हम भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने की मांग कर रहें है।

अयोध्या। राम नगरी अयोध्या में तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाये जाने को लेकर अब संतों व हिन्दू संगठनों का समर्थन जुटा रहे हैं। जिसको लेकर सोमवार को धर्म संसद के तहत बैठक आहुति हुई जिसमें सैकड़ों की संख्या में संत जुटे तो वहीं कई हिन्दू संगठन के लोग भी उपस्थित रहे। 

इसे भी पढ़ें: महंत नरेंद्र गिरी की घटना में सबसे पहले कैसे पहुंच गए आईजी के पी सिंह?

महंत परमहंस दास का दावा है कि आगामी 1 अक्टूबर को सभी हिंदू संगठन हिंदू राष्ट्र की मांग ना माने जाने पर परमहंस दास दो अक्टूबर को अयोध्या के सरयू नदी में जल समाधि लेने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि लंबे समय से हम भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने की मांग कर रहें है। कहा कि मुस्लिमों के लिए पाकिस्तान, बंगलादेश जैसे मुस्लिम देश है तो भारत को हिन्दू राष्ट्र क्यो नहीं किया जा रहा है। उन्होंने सरकार से यह भी मांग किया है कि देश के सभी साधु संतों को सरकार एक लाख रुपये प्रतिमाह दें क्योंकि भारत में संतो की संख्या कम हो रही है। कहीं साधुओं की हत्या हो रही है तो कहीं उनका उत्पीड़न किया जा रहा हैं।

इसे भी पढ़ें: अखाड़ा परिषद अध्यक्ष की मौत पर महंत धर्मदास ने कहा, मानसिक उत्पीड़न किया गया, घटना की हो सीबीआई जांच

तो वहीं इस बैठक से अयोध्या के सभी बड़े सन्तों ने दूरी बनाए रखी जिसको लेकर महंत परामहंस दास ने आरोप लगाया है। कि अधिकतर सन्त किसी न किसी पार्टी से जुड़े हुए हैं। इसी कारण कोई संत अभी दिखाई नही दे रहा है। लेकिन भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाये जाना बहुत जरूरी है। तभी सनातन संस्कृति बचेगी, राम मंदिर बचेगा, और हिंदुओं का स्वाभिमान बचेगा। और कहा कि जल्द यह सभी सन्त भी हमारे साथ होंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...