Maharashtra के राज्यपाल Ramesh Bais ने राज्य विधानमंडल के Budget Session को संबोधित किया, शिवसेना के दोनों गुटों के बीच टकराव की आशंका

Ramesh Bais
ANI
रेनू तिवारी । Feb 27, 2023 1:01PM
महाराष्ट्र विधानसभा का बजट सत्र शुरू हो गया हैं। शुरू हो रहे बजट सत्र में शिवसेना के दोनों गुटों के बीच चल रही राजनीतिक व कानूनी लड़ाई की गूंज सुनाई देने की आशंका है।

हाल ही में महाराष्ट्र के राज्यपाल को बदला गया हैं। भगत सिंह कोश्यारी की जगह रमेश बैस ने संभाली है। ऐसे में महाराष्ट्र के राज्यपाल रमेश बैस ने मुंबई में विधान भवन में महाराष्ट्र राज्य विधानमंडल के बजट सत्र के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। इस दौरान सदन में सभी पार्टियों के लोग उपस्थित थे। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने राज्यपाल रमेश बैस का स्वागत किया।

महाराष्ट्र विधानसभा का बजट सत्र शुरू हो गया हैं। शुरू हो रहे बजट सत्र में शिवसेना के दोनों गुटों के बीच चल रही राजनीतिक व कानूनी लड़ाई की गूंज सुनाई देने की आशंका है। इससे पहले, विपक्षी दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे गुट) और कांग्रेस ने रविवार को सरकार द्वारा आयोजित ‘चाय पार्टी’ का बहिष्कार किया था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने बहिष्कार के कदम को लेकर विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि अच्छी बात है कि आतंकवादी दाऊद इब्राहिम के साथ संबंध रखने वाले नहीं आए। 

इसे भी पढ़ें: चुनावी राज्य कर्नाटक में विकास परियोजनाओं की सौगात, शिवमोगा में एयरपोर्ट, बेलगावी में करोड़ों की योजना

शिंदे का इशारा संभवत: राज्य के पूर्व मंत्री एवं राकांपा नेता नवाब मलिक की ओर था, जो दाऊद इब्राहिम तथा उसके साथियों की गतिविधियों से जुड़े धनशोधन के मामले में पिछले साल गिरफ्तारी के बाद से जेल में हैं। बजट सत्र संयुक्त बैठक में नव-नियुक्त राज्यपाल रमेश बैस के पहले संबोधन के साथ शुरू होगा। उप-मुख्यमंत्री एवं राज्य के वित्त मंत्री देवेंद्र फडणवीस नौ मार्च को विधानसभा में शिंदे की अगुवाई वाली सरकार का पहला बजट पेश करेंगे। महा विकास आघाड़ी (एमवीए) इस एक महीने लंबे सत्र के दौरान सार्वजनिक हित के मुद्दों पर शिंदे-भाजपा सरकार को घेरने की कोशिश करेगा। एमवीए में राकांपा, कांग्रेस और शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे गुट) शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: Jaishankar on China-Pakistan: ...तब तक सामान्य नहीं होंगे चीन के साथ संबंध, जयशंकर का करारा प्रहार

इसके अलावा आपको बता दे कि महाराष्ट्र के पूर्व राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सक्रिय राजनीति में वापसी से इनकार किया है, लेकिन कहा कि वह उत्तराखंड को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उसकी सेवा करना जारी रखेंगे। महाराष्ट्र के राज्यपाल पद से इस्तीफा देने के बाद मीडिया से अपनी पहली बातचीत में कोश्यारी ने शुक्रवार को कहा कि यात्रा से थक जाने के कारण उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस्तीफा देने की इच्छा जताई थी। कोश्यारी को सितंबर 2019 में महाराष्ट्र का राज्यपाल नियुक्त किया गया था।

अन्य न्यूज़